10 Dec 2021 Current Affairs, 10th December 2021 Current Affairs, 10 December 2021 Current Affairs, 10th December 2021 Current Affairs, 10 December 2021 Current Affairs, Current Affairs 10th December 2021,

यह 10th December 2021 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. CDS जनरल बिपिन रावत के हेलिकॉप्‍टर दुर्घटना की ‘ट्राई सर्विस इन्क्वायरी’ का प्रमुख किसे बनाया गया?

a. एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह
b. जनरल एमएल नरवणे
c. एयर मार्शल संदीप सिंह
d. एयर मार्शल सुब्रतो मुखर्जी

Answer: a. एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह

– रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बताया कि यह ट्राई सर्विस इन्‍क्‍वायरी है, मतलब तीनों सैन्‍य बल (आर्मी, नेवी और एयरफोर्स) मिलकर हेलीकॉप्‍टर दुर्घटना की जांच करेगी।
– इसका नेतृत्‍व एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह को सौंपा गया है। वह अनुभवी पायलट भी हैं।
– वह एयर फोर्स के ट्रेनिंग कमांड के कमांडिंग-इन-चीफ हैं। वह एयर फोर्स चीफ के बाद की रैंक के अधिकारी हैं।
– इस जांच के दौरान सभी तरह के संभावित एंगल की पड़ताल होगी। यह भी कि क्‍या कोई साजिश तो नहीं हुई।

– एयरचीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया भी घटनास्‍थल पर पहुंचे।

चार मृतकों की पहचान हुई, बाकियों के लिए डीएनए जांच
– हेलिकॉप्‍टर दुर्घटना के दौरान इसमें सवार 14 लोगों में से 13 की मौत हो गई थी।
– इनमें से डॉक्टरों की टीम ने CDS जनरल बिपिन रावत, मधुलिका और ब्रिगेडियर एलएस लिद्दर समेत 4 शवों की पहचान कर ली।
– रक्षा मंत्रालय का कहना है कि हादसा इतना भीषण था कि शवों की पहचान मुश्किल हो गई है।
– सही पहचान के लिए हर संभव कदम उठा रहे हैं, ताकि किसी करीबी की भावना को चोट न पहुंचे।
– मृतकों के परिजनों को दिल्ली बुला लिया गया है। नौ शवों की पहचान परिजनों के डीएनए मैच के जरिए हो रही है।

ब्‍लैक बॉक्‍स मिला
– हादसे की जगह से कुछ दूरी पर हेलिकॉप्‍टर का ब्‍लैक बॉक्‍स बरामद कर लिया गया।
– हेलिकॉप्‍टर जब क्रैश हुआ तो ब्‍लैक बॉक्‍स को ढूंढने का दायरा घटनास्‍थल के 300 मीटर था।
– जब यह नहीं मिला तो, इसका दायरा एक किलोमीटर किया गया, तब यह मिला।

ब्‍लैक बॉक्‍स क्‍या होता है?
– यह मजबूत स्टील या टाइटेनियम से बना इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्डिंग डिवाइस होता है, जो विमान के क्रैश होने पर जांचकर्ताओं को उसकी वजह जानने में मदद करता है।
– जिसे हम ब्‍लैक बॉक्‍स कहते हैं, वो दरअसल, नारंगी कलर के दो डब्‍बे होते हैं।
– एक कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर और दूसरा डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर।
– फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर को FDR कहते हैं, उसमें डिजिटल लग गया तो उसमें डी भी जुड़ गया।

– कॉकपिट वायस रिकॉर्डर में आखिरी तीस मिनट की बातचीत रिकॉर्ड होती है, किसी फ्लाइट की।
– जैसे क्रू ने आपस में क्‍या बात की। या एयर एयर ट्रैफिक कंट्रोल से क्‍या बातचीत हुई।
– मतलब कॉकपिट में जो भी बातचीत होगी, कन्‍वर्सेशन होगा, आखिरी आधे घंटे में वो इसमें रिकॉर्ड रहती है।

– दूसरा बॉक्‍स होता है FDR/DFDR. इसमें दो मोड होते हैं।
– एक कंटीन्‍यूअस और दूसरा ऑन ऑफ मोड।

पहला मोड – कंटीन्‍यूअस मोड
– इसमें यह बॉक्‍स हर तरह का डेटा रिकॉर्ड करता रहता है, जैसे स्‍पीड, ऑल्‍टिट्यूड, सीधे जाने में क्‍या स्‍पीड है। ऊंचाई क्‍या है। इंजन पावर क्‍या है। आरपीएम कितना है।
– इसके आलावा कुछ और भी जानकारी दर्ज होती है।

दूसरा मोड – ऑन ऑफ
– यह मोड तभी ऑन होता है, जब फ्लाइट में कुछ असामान्‍य घटता है।
– नॉर्मल से अलग जब फ्लाइट में कुछ होता है, तो यह रिकॉर्ड लेने लगता है।

– ये दोनों बॉक्‍स हेलीकॉप्‍टर की टेल में लगाई जाती है। मतलब पिछले हिस्‍से में जो संकरा होता है, पूंछ की तरह दिखता है, वहा पर।
– अमूमन यह जनरल अंडरस्‍टैंडिंग है कि ज्‍यादातर एयरक्राफ्ट सामने की ओर से टकराता है यानी नोज की तरफ से।
– इसलिए मानकर चला जाता है कि पिछला हिस्‍सा ज्‍यादातर क्रैश में बच जाएगा।
– इस बॉक्‍स को इस तरह डिजाइन किया जाता है कि यह बड़े से बड़े क्रैश में अमूमन डैमेज नहीं होता है।
– क्रैश के दौरान यह टूटकर अलग हो जाता है।

– तो सीडीएस का हेलिकॉप्‍टर जब क्रैश हुआ तो ब्‍लैक बॉक्‍स को ढूंढने का दायरा घटनास्‍थल के 300 मीटर था।
– जब यह नहीं मिला तो, इसका दायरा एक किलोमीटर किया गया, तब यह मिला।

– ब्‍लैक बॉक्‍स इस तरह डिजाइन किए जाते हैं कि ये बड़ा से बड़ा इफेक्‍ट झेल पाएं।
– हाई टेंपरेचर झेलने के लिए बनाया जाता है। क्‍योकि ज्‍यादातर बार एयरक्राफ्ट क्रैश होने के बाद आग लग जाती है, फ्यूल की वजह से।
– काफी लंबे समय तक हाई टेंपरेचर झेल सकता है।
– ब्‍लैक बॉक्‍स को गहरे पानी में डूबने पर भी सुरक्षित रखने के लिए डिजाइन किया जाता है। क्‍योंकि कई बार समुद्र या नदी में भी एयरोप्‍लेन या हेलिकॉप्‍टर क्रैश हो जाते हैं।
– इसलिए किसी भी जांच के लिए ब्‍लैक बॉक्‍स को बेहद भरोसेमंद माना जाता है। इसमें आखिरी पलों की जानकारी होती है।
– तो अब इस ब्‍लैक बॉक्‍स के रिकॉर्डिंग और आंकड़ों का विश्‍लेषण होगा। एक खास टीम यह काम करेगी। इसकी जांच रिपोर्ट आने में वक्‍त लग सकता है।

नए CDS का चयन
सरकार के लिए चिंता की बात है कि जनरल रावत की जगह कौन लेगा।
– मिलिटरी रिफॉर्म के लिए उन्‍हें
– सीडीएस का कोई डिप्‍टी नहीं होता है।
– सीडीएस के लिए कोई स्‍पेसफिक नियम नहीं है। कोई तय प्रक्रिया का पालन नहीं करना है।
– हालांकि यह भी बात है कि आर्मी, नेवी या एयरफोर्स चीफ को ही सीडीएस बनाया जा सकता है।
– ऐसे में आर्मी चीफ सीनियरिटी में सबसे ऊपर हैं। अगर उन्‍हें बनाया जाता है, तो नए आर्मी चीफ का भी चयन करना होगा।
– तो सरकार के लिए बड़ा काम अभी होने वाला है।

——————
2. किन पड़ोसी देशों ने CDS जनरल बिपिन रावत के अंतिम संस्‍कार में शामिल होने के लिए अपने टॉप आर्मी ऑफिसर्स भेजे?

a. पाकिस्‍तान, नेपाल और भूटान
b. चीन, नेपाल और भूटान
c. अफगानिस्‍तान, नेपाल और भूटान
d. श्रीलंका, बांग्‍लादेश, नेपाल और भूटान

Answer: d. श्रीलंका, बांग्‍लादेश, नेपाल और भूटान

– श्रीलंका का प्रतिनिधित्व वहां के CDS और श्रीलंकाई सेना के कमांडर जनरल शैवेंद्र सिल्वा कर रहे हैं।
– उनके साथ श्रीलंका के पूर्व सीडीएस एडमिरल रवि विजेगुनारत्ने, (सेवानिवृत्त) भी हैं, जो भारत के नेशनल डिफेंस कॉलेज से जनरल रावत के क्‍लासमेट थे।
– बांग्‍लादेश का प्रतिनिधित्‍व वहां का 3स्‍टार मिलिटरी जनरल करेंगे।
– नेपाल ने अपने सेनाध्‍यक्ष जनरल प्रभु राम शर्मा और लेफ्टिनेंट जनरल बाल कृष्ण कार्की को भेजा है।
– नेपाल का प्रतिनिधिमंडल इसलिए भी महत्‍वपूर्ण है, क्‍योंकि नेपाल ने वर्ष 2017 में जनरल बिपिन रावत को नेपाल का सेना का मानद जनरल पद से सम्‍मानित किया था।
– भूटान का प्रतिनिधित्व रॉयल भूटान सेना के डिप्‍टी चीफ कमांडिग ऑफिसर ब्रिगेडियर दोरजी रिनचेन करेंगे।

– इसके अलावा दुनिया के बहुत सारे देशों का प्रतिनिधित्व दिल्ली में स्थित डिफेंस अटैची कर रहे हैं।
– कुछ राजदूत और दूतावास के अधिकारी भी अंतिम संस्‍कार में हिस्‍सा ले रहे हैं।

—————-
3. एंजेला मर्केल की जगह जर्मनी के नए चांसलर कौन बने?

a. Olaf Scholz
b. Armin Laschet
c. Analena beyrbok
d. Annalena Baerbock

Answer: a. Olaf Scholz (ओलाफ शॉल्‍त्‍स)

– एंजेला मर्केल के 16 साल के शासनकाल के बाद अब जर्मनी में एक नए युग की शुरुआत की बात कही जा रही है। मर्केल ने 2005 से 2025 तक चांसलर रहीं।
– नए चांसलर ओलाफ शॉल्‍त्‍स, वहां की सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी से हैं।
– जर्मनी में राष्‍ट्राध्‍यक्ष को चांसलर कहा जाता है।
– नए चांसलर ओलाफ शॉल्त्स ने तीन दलों की गठबंधन सरकार बनाई है।
– वह वर्ष 2018 से जर्मनी के वाइस चांसलर और फाइनेंस मिनिस्‍टर थे।
– नए चांसलर ओलाफ शॉत्‍स ने ग्रीन्स पार्टी के सह-नेता रॉबर्ट हाबेक वाइस चांसलर बनाया है।
– जबकि सरकार में तीसरे नंबर वित्त मंत्री का पद क्रिश्चियन लिंडनर को दिया गया है, जो फ्री डेमोक्रेट्स नेता हैं।

कैसे चुना जाता है चांसलर
– हमारे देश की तरह जर्मनी में भी लोकतंत्र और संसदीय व्यवस्था है, लेकिन चांसलर चुनने का तरीका अलग है।
– भारत में चुनाव के पहले प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम की घोषणा जरूरी नहीं है।
– लेकिन जर्मनी में सभी दलों को चांसलर कैंडिडेट का नाम बताना जरूरी है।
– इसी के नाम और चेहरे पर चुनाव लड़ा जाता है।
– अगर उसकी पार्टी या गठबंधन चुनाव जीत जाता है तो उसे बुंडेस्टाग (संसद का निचला सदन) में स्वयं के लिए बहुमत जुटाना होता है।
– अगर किसी पार्टी या गठबंधन को बहुमत हासिल हो जाता है, तो उसकी सरकार बन जाती है।

—————-
4. फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री (FICCI-फिक्‍की) के नए अध्‍यक्ष कौन हैं?

a. संजीव मेहता
b. अर्जुन पांडे
c. विकास अग्रवाल
d. अवनीश कुमार

Answer: a. संजीव मेहता

– संजीव मेहता 18 दिसंबर 2021 को वार्षिक आम बैठक में इस पद को संभालेंगे।
– वह उदय शंकर की जगह लेंगे।
– संजीव मेहता ‘हिंदुस्‍तान युनिलीवर लिमिटेड’ (HUL) के अध्‍यक्ष और प्रबंध निदेशक हैं।
– वह यूनिलीवर दक्षिण एशिया (भारत, पाकिस्‍तान, बांग्‍लादेश, श्रीलंका, नेपाल) के प्रेसिडेंट हैं।
– वह 28 सालों से यूनिलीवर लीडरशिप एक्‍जीक्‍यूटिव के सदस्‍य हैं। जो यूनिलीवर का ग्‍लोवल एक्‍जीक्‍यूटिव बोर्ड है।

फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्‍ट्री (FICCI-फिक्‍की)
स्‍थापना: 1927
मुख्‍यालय: नई दिल्‍ली
महासचिव: अरुण चावला

—————-
5. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने केन और बेतवा नदी इंटरनलिंक के लिए 44605 करोड़ रुपए के प्रोजेक्‍ट को मंजूरी दी। यह प्रोजेक्‍ट किन राज्‍यों में पूरा होगा?

a. राजस्‍थान और मध्‍य प्रदेश
b. कर्नाटक और मध्‍य प्रदेश
c. उत्‍तर प्रदेश और बिहार
d. उत्‍तर प्रदेश और मध्‍य प्रदेश

Answer: d. उत्‍तर प्रदेश और मध्‍य प्रदेश

– यह भारत का पहला रीवर इंटरलिंकिंग प्रोजेक्‍ट है।
– केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 8 दिसंबर 2021 के इस प्रोजेक्‍ट को मंजूरी दी।
– केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कैबिनेट के फैसले की घोषणा करते हुए कहा कि नदी जोड़ने की परियोजना को “राष्ट्रीय परियोजना” माना गया है।
– इसका मतलब है कि केंद्र लागत का 90 प्रतिशत वहन करेगा जबकि शेष 10 प्रतिशत दोनों राज्यों द्वारा वहन किया जाएगा।

केन – बेतवा इंटरलिंक प्रोजेक्‍ट
– प्रोजेक्‍ट की कुल लागत : 44,605 करोड़ रुपए।
– प्रोजेक्‍ट का समय : 8 साल।
– केन और बेतवा को जोड़ने वाली नहर की लंबाई : 221 किलोमीटर
– मध्य प्रदेश में पन्ना जिले में केन नदी से उत्तर प्रदेश में बेतवा नदी में स्थानांतरित किया जाएगा।
– परियोजना उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र को लाभ पहुंचाएगी, जिससे पानी की कमी दूर होगी और इस प्रकार इस क्षेत्र में समृद्धि आएगी।
– प्रोजेक्‍ट पूरा होने के बाद उत्तर प्रदेश व मध्‍य प्रदेश के 12 जिलों को पानी मिलेगा। ये सूखा प्रभावित जिले हैं।
– प्रोजेक्‍ट की नींव यूपी चुनाव से पहले रखी जाएगी।

इन जिलों को होगा फायदा
– मध्‍य प्रदेश के पन्‍ना, टीकमगढ़, सागर, छतरपुर, दमोह, विदिशा, दतिया, शिवपुरी
– उत्‍तर प्रदेश के बुंदेलखंड, बांदा, महोबा, झांसी, और ललितपुर को पानी मिलेगा।

कहां से कहां तक बांध बनाए जाएंगे
– प्रोजेक्‍ट के फर्स्‍ट फेज में ढोड़न गांव के पास केन नदी पर डेम बनाकर पानी को रोक दिया जाएगा। पानी को नहर (canal) के रास्‍ते से बेतवा नदी में पहुंचाया जाएगा।
– प्रोजेक्‍ट के सेकेंड फेज में विदिशा जिले पास बेतवा नदी पर 4 डेम बनेंगे।
– इसी के साथ बेतवा की सहायक ‘बीना नदी’ सागर जिला और ‘उर नदी’ शिवपुरी जिला पर डेम को बनाए जाएंगे।
– इस प्रोजेक्‍ट से 10.62 लाख हेक्‍टेयर में सिंचाई होगी।
– 62 लाख से ज्‍यादा आबादी को पीने का पानी मिलेगा।

– परियोजना पर काम मूल रूप से 2015 में शुरू होने वाला था। लेकिन यूपी और एमपी राज्‍य में पानी के बंटवारे और खर्च के वहन को लेकर मतभेद की वजह से रुका पड़ा था।
– केंद्र सरकार की पहल के बाद मार्च 2021 में दोनों राज्‍यों के मुख्‍यमंतृरी और केंद्र जल शक्ति मंत्री के बीच त्रिपक्षीय समझौते (MOU) साइन हुए थे।

– इस प्रोजेक्‍ट को लेकर पर्यावरण चिंताएं भी हैं।
– कांग्रेस सांसद और पूर्व पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने कहा था कि यह परियोजना “म.प्र. में पन्ना टाइगर रिजर्व को नष्ट कर देगी।

——————-
6. एशिया पावर इंडेक्‍स 2021 में भारत किस स्‍थान पर है?

a. 1st
b. 2nd
c. 3rd
d. 4th

Answer: d. 4th

– इस इंडेक्‍स को ऑस्‍ट्रेलिया की लोवी इंस्‍टीट्यूट ने जारी किया है।
– इंडेक्‍स में इंडिया ने 100 में से 37.7 ओवरऑल स्‍कोर के साथ चौथा स्‍थान हासिल किया।
– पिछले साल 2020 की तुलना में इंडिया के ओवरऑल स्‍कोर में 2 अंक की गिरावट आई।

—————-
7. एशिया पावर इंडेक्स 2021 में पहले स्‍थान पर कौन सा देश है, जो एशिया प्रशांत क्षेत्र को प्रभावित करने की क्षमता रखता है?

a. चीन
b. यूएसए
c. जापान
d. यूनाइटेड किंगडम

Answer: b. यूएसए

– आप सोच रहे होंगे कि ये एशिया पावर इंडेक्‍स में अमेरिका कैसे।
– तो इस रैंकिंग में इस बात को देखा जाता है कि एशिया-प्रशांत क्षेत्र में कौन सा देश कितना प्रभावशाली है, चाहे वह एशिया का हो या नहीं हो।

– इस इंडेक्‍स का मतलब है कि एशिया में किस देश की इकोनॉमिक, डिफेंस सहित 8 तरह के मानक में कितनी हैसियत है।

– इस इंडेक्‍स में सबसे टॉप पर अमेरिका है और दूसरे स्‍थान पर चीन।
– इस इंडेक्‍स में पाकिस्‍तान का 15वां स्‍थान है।
– वहीं सबसे लास्‍ट में 26वां स्‍थान पपुआ न्‍यू गुनिया देश का है।
– आर्थिक मामले में भारत की रैंक 8 और रक्षा नेटवर्क में 7 है।

एशिया पावर इंडेक्‍स 2021 में टॉप 10 देश
1- अमेरिका
2- चीन
3- जापान
4- भारत
5- रूस
6- ऑस्‍ट्रेलिया
7- साउथ कोरिया
8- सिंगापुर
9- इंडोनेशिया
10- थाईलैंड

इंडेक्‍स बनाने के 8 मानक
– आर्थिक संसाधन (Economic Capability)
– सैन्य ताकत (Military Capability)
– लचीलेपन (Resilience – रेजिलेंस)
– भविष्य के संसाधन (Future Resources)
– आर्थिक संबंध (Economic Relationships)
– रक्षा नेटवर्क (दूसरे देशों के साथ) (Defence Network)
– राजनयिक प्रभाव (Diplomatic Influence)
– सांस्कृतिक प्रभाव (Cultural Influence)

लोवी इंस्‍टीट्यूट एशिया पावर इंडेक्‍स
अध्‍यक्ष: फ्रैंक लोवी एसी
हेडक्‍वाटर: सिडनी, ऑस्‍ट्रेलिया

—————-
8. राष्ट्रीय सशस्त्र बल दिवस (National Armed Forces Day) कब मनाया जाता है?

a. 8 दिसंबर
b. 7 दिसंबर
c. 6 दिसंबर
d. 5 दिसंबर

Answer: b. 7 दिसंबर

– इसे भारत के राष्‍ट्रीय घ्‍वज दिवस के रूप में भी जाना जाता हैं।

– केंद्रिय कैबिनेट की अध्‍यक्षता में 28 अगस्त 1949 को एक समिति का गठन किया था।
– इसी समिति ने प्रतिवर्ष 7 दिसंबर को झंडा दिवस मनाने का फैसला किया।
– इस दिवस का उद्देश्य इंडियन आर्मी के जवानों का आभार प्रकट करते हुए सेना के लिए धनराशि एकत्र करना है।

इस राशि को इकठ्ठा करने के तीन मुख्‍य उद्देश्‍य हैं-
– इस राशि से युद्ध के समय हुई जनहानि में मदद
– आर्मी में कार्यरत सैनिकों और उनके परिवार के कल्‍याण के लिए मदद
– रिटायर्ड कर्मियों और उनके परिवार के कल्‍याण के लिए मदद

—————-
9. अंतर्राष्ट्रीय भ्रष्टाचार विरोधी दिवस (International Anti-Corruption Day) कब मनाया जाता है?

a. 6 दिसंबर
b. 8 दिसंबर
c. 9 दिसंबर
d. 11 दिसंबर

Answer: c. 9 दिसंबर

– 2021 का विषय: “आपका अधिकार, आपकी भूमिका: भ्रष्टाचार को ना कहें (Your right, your role: say no to corruption)”

– इस दिवस को संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा ने घोषित किया हुआ है।

——————-
10. SAARC चार्टर दिवस कब मनाया जाता है?

a. 6 दिसंबर
b. 8 दिसंबर
c. 9 दिसंबर
d. 11 दिसंबर

Answer: b. 8 दिसंबर

– दरअसल, 8 दिसंबर 1985 को, समूह के पहले शिखर सम्मेलन के दौरान, ढाका में सार्क चार्टर को अपनाया गया था।
– चार्टर पर आठ दक्षिण एशियाई देशों- बांग्लादेश, भूटान, अफगानिस्तान, मालदीव, नेपाल, भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका के नेताओं द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे।

सार्क
अध्यक्षता: नेपाल;
महासचिव: एसाला रुवान वीराकून (श्रीलंका);
सचिवालय: काठमांडू, नेपाल।


Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here

 

Buy eBooks & PDF

About Us | Help Desk | Privacy Policy | Disclaimer | Terms and Conditions | Contact Us

©2022 Sarkari Job News powered by Alert Info Media Pvt Ltd.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account