एसबीआई एसोसिएट बैंक में नई भर्ती अब नहीं | छह बैंकों के एसबीआई में विलय का असर

एसबीआई एसोसिएट बैंक में नई भर्ती अब नहीं | छह बैंकों के एसबीआई में विलय का असर. एसबीआई एसोसिएट बैंक भर्तीस्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) का अपने पांच एसोसिएट बैंकों के साथ विलय अब अंतिम दौर में है। एसबीआई छह महीने के भीतर अपने सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक (बीएमबी) का विलय कर लेगी। इससे एसबीआई एसोसिएट बैंक भर्ती पर बड़ा असर होगा। एसबीआई एसोसिएट बैंक में नई भर्तीयां नहीं होंगी।

(Click here for read in English)

निकट भविष्‍य में एसबीआई में भी बड़ी भर्ती की उम्‍मीद कम

वर्तमान में, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और उसके 5 सहयोगी बैंकों में खाली पदों के लिए अलग-अलग भर्ती  हो रही है।  स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर अब मौजूद नहीं रहेगा। एसबीआई में विलय के बाद, सभी सहयोगी बैंकों को स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के नाम से जाना जाएगा।

यह विलय होने के बाद एसबीआई दुनिया के टॉप 50 बैंकों में शामिल हो जाएगा। इसकी संपत्ति 37 खरब रुपये (37 लाख करोड़ रुपये), 50 करोड़ से ज्‍यादा ग्राहक, 22500 शाखाएं और 58000 एटीएम होंगे।

भारतीय स्टेट बैंक के सहयोगी बैंकों में भर्ती पर असर

1) नई भर्ती की घोषणा होगी, लेकिन अगले कुछ वर्षों के लिए कम से कम बड़ी वैकेंसी की उम्‍मीद नहीं है।

2) अब एसबीआई एसोसिएट भर्ती नहीं होंगी। इसके बजाय, वहाँ पूरे स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) समूह के लिए सिर्फ एक ही भर्ती की जाएगी।

3) सहयोगी बैंकों की कई शाखाओं को व्यापार और संचालन के ओवरलैप से बचने के लिए बंद कर दिया जा सकता है। इससे बैंक के संचालन में खर्च कम आएगा।

4) वर्तमान में मौजूद कर्मचारियों के लिए नौकरी पर संकट नहीं है। उन्‍हें अन्‍य जिम्‍मेदारियां सौंपी जा सकती है। कई कर्मचारी डर में हैं कि शाखाओं के बंद होने से उनका ट्रांसफर किया जा सकता है।

…Continue after Advt. ⇓

भारतीय स्टेट बैंक इस वक्‍त देश भर में 14,000 से अधिक शाखाओं के साथ भारत के सबसे बड़े सरकारी बैंक है। स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर – यह भी 5 बैंकिंग सहायक लोकप्रिय सहयोगी बैंकों के रूप में जाना जाता है।

हालांकि इन सहायक बैंकों भारतीय स्टेट बैंक के एक ही लोगो का हिस्सा है, प्रत्येक की अपनी मुख्यालय और टीम प्रबंधन और नीतियां है। विलय के बाद इन्‍हें सिर्फ एसबीआई के नाम से जाना जाएगा।

तीन महीने में होगा विलय

वर्तमान में, भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और उसके 5 सहयोगी बैंकों में खाली पदों के लिए अलग-अलग भर्ती हो रही है। स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर अब मौजूद नहीं रहेगा। एसबीआई में विलय के बाद, सभी सहयोगी बैंकों को स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) के नाम से जाना जाएगा।

नई पीढ़ी के निजी बैंकों के साथ प्रतिस्पर्धा के लिए भारत सरकार एसबीआई को एक ही संस्‍था बनाकर एसोसिएट बैंकों के विलय में लगी हुई है। भारतीय स्टेट बैंक के एसोसिएट बैंकों के बोर्ड और भारतीय महिला बैंक के विलय का अब सरकार की ओर से औपचारिक अनुमोदन के लिए इंतजार हो रहा है।

एसबीआई अध्यक्ष अरुंधति भट्टाचार्य से अगले कदम के बारे में पूछे जाने पर बताया, “एक बार जब हमें विलय का अनुमोदन मिलता है, हम यूनियनों से मुलाकात करेंगे”।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने हाल ही में कहा, “हम शीघ्र ही विलय की मंजूरी की उम्मीद कर रहे हैं”, केंद्र सरकार ने भी बैंकिंग क्षेत्र में विलय के पक्ष में है।

एसबीआई के प्रबंध निदेशक वीजी कन्नन “ने कहा है कि हम में से किसी को नुकसान मनन नहीं करते। किसी भी जोखिम का कोई सवाल ही नहीं है और इन अनावश्यक डर रहे हैं। भर्ती वार्षिक हो रही हैं, तो हम सिर्फ कम लोगों की भर्ती को खत्म हो जाएगा। ”

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के साथ एसोसिएट बैंकों के प्रस्तावित विलय से अधिक रोजगार के अवसर पैदा के बारे में भविष्यवाणी नहीं की जा सकती है। एसबीआई एसोसिएट बैंक भर्ती पर असर देखने को मिलेगा।

(Click here for read in English)

Updated: June 16, 2016 — 5:28 am

Leave a Reply

Recent Posts

Recent Posts

सरकारी जॉब न्यूज | Sarkari Job News Hindi © 2016 Frontier Theme