यह  29 & 30 June 2021 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. केंद्र सरकार ने अटॉर्नी जनरल  (महान्‍यायवादी) केके वेणुगोपाल का कार्यकाल दूसरी बार कब तक के लिए बढ़ा दिया?

a. 30 जून 2022
b. 30 जून 2023
c. 30 जून 2024
d. 01 जनवरी 2022

Answer: a. 30 जून 2022

– केंद्र सरकार ने उनका कार्यकाल एक साल के लिए और बढ़ाने का फैसला किया है।
– अब वह 30 जून 2022 तक इस पद पर रहेंगे।
– उन्‍हें केंद्र सरकार ने एक जुलाई 2017 में तीन साल के लिए अटॉर्नी जनरल नियुक्‍त किया था।
– वर्ष 2020 में उनका कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ाया गया था।
– अब एक साल और यानी 30 जून 2022 तक कार्यकाल बढ़ गया है।
– केके वेणुगोपाल 90 साल के हैं।
– वह 1977 से 1979 तक मोरारजी देसाई की सरकार में सॉलीसिटर जनरल रह चुके हैं।
– केंद्र सरकार ने इसके साथ-साथ सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता का कार्यकाल भी 3 साल बढ़ा दिया है। जो एक जुलाई से प्रभार होगा।

अटॉर्नी जनरल  
– वह भारत का प्रथम विधि अधिकारी होता है।
– भारतीय संविधान के अनुच्छेद 76 में उल्लेख है कि भारत का महान्यायवादी भारत का सर्वोच्च कानून अधिकारी है।
– अटॉर्नी जनरल भारत सरकार का मुख्य कानूनी सलाहकार है और कानूनी मामलों पर केंद्र सरकार को सलाह देता है।
– सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में भारत सरकार का पक्ष रखता है।
– अटॉर्नी जनरल को संसद की दोनों सदनों की कार्यवाही में भाग लेने और बोलने का भी अधिकार होता है।
– हालांकि सदन में वोट करने का अधिकार नहीं होता।
– उन्‍हें वो सारे विशेषाधिकार और इम्‍यूनिटी होती है, जो एक सांसद के पास होती है।

भारत के पहले अटॉर्नी जनरल कौन थे?
– मोतीलाल सी. सेटालवड (28 जनवरी 1950 – 1 मार्च 1963)
– जबकि केके वेणुगोपाल देश के 15वें अटॉर्नी जनरल हैं।

अटॉर्नी जनरल की नियुक्ति कैसे होती है?
– राष्ट्रपति की इच्छा के समय पद पर रहता है।
– भारत के अटॉर्नी जनरल को किसी भी समय राष्ट्रपति द्वारा हटाया जा सकता है।
– नियुक्ति के लिए जरूरी है कि उसे भारत का नागरिक होना चाहिए।
– उन्होंने या तो किसी भारतीय राज्य के हाईकोर्ट में जज के रूप में या एडवोकेट के रूप में 10 वर्ष पूरे किए होंगे।
– वह राष्ट्रपति की नजर में एक प्रख्यात न्यायविद भी हो सकते हैं।

————————–
2. तीरंदाजी विश्व कप (Archery World Cup) 2021 के मिक्‍स डबल्‍स (रिकर्व कैटेगरी) में किस पति-पत्‍नी खिलाड़ी ने गोल्‍ड मेडेल जीता?

a. दीपिका कुमारी और अतनु दास
b. राकेश कुमार और विमला देवी
c. विवेक कुमार और रौशनी दास
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: a. दीपिका कुमारी और अतनु दास

– यह ईवेंट पेरिस में आयोजित हुआ है।
– वर्ल्ड कप के मिक्स्ड इवेंट में इस भारतीय जोड़ी ने नीदरलैंड के जेफ वान डेन बर्ग और गैब्रिएला शोलेसर को 5-3 से शिकस्त दी।
– अतनु दास और दीपिका कुमारी महतो ने पहली बार पति-पत्नी के रूप में किसी इवेंट का फाइनल जीता है।
– यह पति-पत्नी की जोड़ी ओलिंपिक के लिए पहले ही क्वालिफाई कर चुकी है।
– दोनों से मेडल की भी बहुत उम्मीद है।
– अतनु और दीपिका ने वर्ष 2020 में ही शादी की।
– 30 जून को उनकी पहली मैरिज एनिवर्सरी आने वाली है।
– वे दोनों झारखंड से हैं।

—————————
3. तीरंदाजी विश्व कप (Archery World Cup) 2021 में मिश्रित टीम वर्ग (रिकर्व कैटगरी) में भारत के किन तीन खिलाडि़यों ने गोल्‍ड मेडल जीता?

a. अतनु दास, गैब्रिएला श्लोसेर और अंकिता भकत
b. दीपिका कुमारी, अतनु दास और कोमलिका बारी
c. दीपिका कुमारी, अंकिता भकत और कोमलिका बारी
d. अतनु दास, गैब्रिएला श्लोसेर दीपिका कुमारी

Answer: c. दीपिका कुमारी, अंकिता भकत और कोमलिका बारी

– 27 जून 2021 को हुए टूर्नामेंट में भारतीय महिला रिकर्व टीम ने मैक्सिको को हराकर स्वर्ण पदक जीता।
– फ्रांस की राजधानी पेरिस में चल रहे टूर्नामेंट में ये जीत हासिल की।
– इस जीत पर भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने ट्वीट कर तीनों खिलाडि़यों को बधाई दी है।

—————————–
4. दुनिया की नंबर वन तीरंदाज (आर्चरी) खिलाड़ी रिकर्व कैटेगरी में कौन बन गई हैं?

a. विमला देवी
b. रौशनी दास
c. दीपिका कुमारी
d. अंकिता भकत

Answer: c. दीपिका कुमारी

– वर्ल्‍ड आर्चरी फेडरेशन ने उन्‍हें वर्ल्‍ड रैंकिंग में सबसे ऊपर रखा है।
– दरअसल, फ्रांस में वर्ल्‍ड आर्चरी कप 2021 का आयोजन चल रहा है, वहीं पर दीपिका कुमार ने लगातार तीन गोल्‍ड जीतकर इतिहास रच दिया है।
– दीपिका ने मात्र पाँच घंटे में ये तीनों गोल्ड मेडल हासिल किए हैं।
– 27 जून को पहले तो व्‍यक्तिगत श्रेणी में, उसके बाद मिक्‍स डबल्‍स और फिर मिक्‍स वूमन श्रेणी में गोल्‍ड जीता।
– यहां तक कि मिक्‍स डबल्‍स और मिक्‍स वूमन श्रेणी में गोल्‍ड मेडेल दीपिका कुमार की बदौलत ही भारत के खाते में आया।
– इसी के बाद वह नंबर तीन से नंबर एक पर पहुंच गईं।
– वह झारखंड की रहने वाली हैं। 27 साल की हैं।
– दीपिका जुलाई में शुरू हो रहे टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने के लिए जापान जा रही हैं।
– ख़ास बात ये है कि भारत की ओर से जा रही तीरंदाजी टीम में वह अकेली महिला हैं।

दीपिका कुमारी
– उनका जन्‍म झारखंड के बेहद गरीब परिवार में हुआ था।
– दीपिका के पिता शिव नारायण महतो एक ऑटो-रिक्शा ड्राइवर के रूप में काम किया करते थे।
– तीरंदाजी सीखने के लिए अपने घर से निकलते हुए दीपिका के मन में एक संतोष इस बात का था कि उनके जाने से परिवार पर एक बोझ कम हो जाएगा।
– लेकिन आज दीपिका ने अपने दम पर परिवार का आर्थिक और सामाजिक दर्जा ऊंचा किया है।
– 14 साल की उम्र में पहली बार धनुष-बाण उठाने वाली दीपिका का तीरंदाजी की दुनिया में प्रवेश भी संयोगवश हुआ. और उन्होंने अपनी शुरुआत बांस के बने धनुष बाण से की।
– दीपिका ने बीबीसी से कहा है कि “वह तीरंदाज़ी के प्रति इतनी दीवानी हैं क्योंकि उन्होंने इस खेल को नहीं बल्कि इस खेल ने उन्हें चुना है।”
– तीरंदाजी की दुनिया में अपनी एंट्री की कहानी बताते हुए दीपिका कहती हैं, “साल 2007 में जब हम नानी के घर गए तो वहां पर मेरी ममेरी बहन ने बताया कि उनके वहां पर अर्जुन आर्चरी एकेडमी है.
– जब उसने ये बोला कि वहां पर सब कुछ फ्री है. किट भी मिलती है, खाना भी मिलता है. तो मैंने कहा कि चलो अच्छी बात है, घर का एक बोझ कम हो जाएगा. क्योंकि उस समय आर्थिक संकट बहुत गहरा था।”
– लेकिन जब दीपिका ने अपनी ख़्वाहिश पिता के सामने रखी तो वह निराश हो गयीं।
– दीपिका बताती हैं, “राँची एक बहुत ही छोटी और रूढ़िवादी जगह है. मैंने जब पिता को बताया कि मुझे आर्चरी सीखने जाना है तो उन्होंने मना कर दिया।”
– लेकिन बाद में दीपिका आखिरकार राँची से लगभग 200 किलोमीटर दूर स्थित खरसावाँ आर्चरी एकेडमी तक पहुंच गयीं।
– इसके बाद आज वह दुनिया की नंबर वन तीरंदाज हैं।

—————————-
5. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोविड से प्रभावित अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए कितनी रकम के राहत पैकेज की घोषणा जून 2021 में की?

a. 6,28,993 करोड़ रुपए
b. 6,37,443 करोड़ रुपए
c. 7,28,993 करोड़ रुपए
d. 6,28,995 करोड़ रुपए

Answer: a. 6,28,993 करोड़ रुपए

– वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 28 जून 2021 को घोषणाएं कीं। ये सब लोन सुविधा है।
– लेकिन सवाल है कि जब मार्केट में डिमांड नहीं है, तो लोन की सुविधा कितनी कामयाब हो सकेगी।
– आठ तरह के आर्थिक राहत के कदम बताए गए, जिनमें चार आर्थिक राहत के कदम नए हैं। बाकी योजनोंओं का विस्‍तार किया गया है।

1. इकोनॉमिक रिलीफ – लोन गारंटी स्कीम
– कोविड से प्रभावित सेक्टर के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपए की लोन गारंटी स्कीम।
– हेल्थ सेक्टर के लिए 50 हजार करोड़ रुपए।
– अन्य सेक्टर्स के लिए 60 हजार करोड़ रुपए।
– हेल्थ सेक्टर के लिए लोन पर 7.95% सालाना से अधिक ब्याज नहीं होगा।
– अन्य सेक्टर्स के लिए ब्याज 8.25% से ज्यादा नहीं होगा।

2. ECLGS (Emergency Credit Line Guarantee Scheme)
– ECLGS में 1.5 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त दिए जाएंगे।
– ECLGS 1.0, 2.0, 3.0 में अब तक 2.69 लाख करोड़ रुपए का वितरण।
– सबसे पहले इस स्कीम में 3 लाख करोड़ रुपए की घोषणा की गई थी।
– अब स्कीम का दायरा 4.5 लाख करोड़ रुपए हो गया है।
– अब तक शामिल किए गए सभी सेक्टर्स को इसका लाभ मिलेगा।

3. क्रेडिट गारंटी स्कीम
– छोटे कारोबारी-इंडिविजुअल, NBFC, माइक्रो फाइनेंस इंस्टीट्यूट से 1.25 लाख तक का लोन ले सकेंगे।
– इस पर बैंक के MCLR पर अधिकतम 2% जोड़कर ब्याज लिया जा सकेगा।
– इस लोन की अवधि 3 साल होगी और सरकार गारंटी देगी।
– 89 दिन के डिफॉल्टर समेत सभी प्रकार के बॉरोअर इसके लिए योग्य होंगे।
– इस स्कीम का लाभ 25 लाख लोगों को मिलेगा।
– करीब 7500 करोड़ रुपए का प्रावधान किया जाएगा।
– 31 मार्च 2022 तक इसका लाभ मिलेगा।

4. पर्यटन – रजिस्टर्ड टूरिस्ट गाइड/ ट्रेवल टूरिज्म स्टेकहोल्डर्स को वित्तीय मदद
– कोविड से प्रभावित रजिस्टर्ड टूरिस्ट गाइड और ट्रेवल टूरिज्म स्टेकहोल्डर्स को वित्तीय मदद दी जाएगी।
– इसमें लाइसेंस्ड टूरिस्ट गाइड को 1 लाख रुपए और टूरिस्ट एजेंसी को 10 लाख रुपए का लोन दिया जाएगा।
– इस लोन को 100% गारंटी दी जाएगी।
– इस लोन पर कोई प्रोसेसिंग चार्ज नहीं होगा।

5. पहले 5 लाख विदेशी टूरिस्ट वीजा मुफ्त जारी किए जाएंगे
– यह स्कीम 31 मार्च 2022 तक लागू रहेगी।
– इसके तहत 100 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता दी जाएगी।
– एक टूरिस्ट को केवल एक बार स्कीम का लाभ मिलेगा।
– विदेशी टूरिस्ट्स को वीजा की अनुमति मिलते ही इस स्कीम का लाभ मिलेगा।
– 2019 में करीब 1.93 करोड़ विदेशी टूरिस्ट भारत आए थे।

6. आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का विस्तार
– यह योजना अक्टूबर 2020 में लॉन्च की गई थी।
– अब इस स्कीम को बढ़ाकर 31 मार्च 2022 तक किया जा रहा है।
– इसके तहत अब तक करीब 21.42 लाख लाभार्थियों के लिए 902 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं।
– सरकार 15 हजार से कम वेतन वाले कर्मचारियों और कंपनियों के PF का भुगतान करती है।
– सरकार ने इस स्कीम में 22,810 करोड़ रुपए खर्च करने का लक्ष्य रखा है।
– जिससे करीब 58.50 लाख लोगों को लाभ मिलेगा।
– सरकार कर्मचारी-कंपनी का 12%-12% PF का भुगतान करती है।

7. कृषि से संबंधी सब्सिडी
– किसानों को 14,775 करोड़ रुपए की अतिरिक्त सब्सिडी दी गई है।
– इसमें 9125 करोड़ रुपए की सब्सिडी DAP पर दी गई है।
– 5650 करोड़ रुपए की सब्सिडी NPK पर दी गई है।
– रबी सीजन 2020-21 में 432.48 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीदारी की गई है।
– अब तक किसानों को 85,413 करोड़ रुपए सीधे दिए गए हैं।

8. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना
– कोविड से प्रभावित गरीबों की मदद के लिए 26 मार्च 2020 को इस स्कीम की घोषणा की गई थी।
– शुरुआत में इस स्कीम का लाभ अप्रैल से जून 2020 के दौरान मिला था।
– बाद में इसे बढ़ाकर नवंबर 2020 तक लागू कर दिया था।
– 2020-21 में इस स्कीम पर 1,33,972 करोड़ रुपए खर्च हुए थे।
– मई 2021 में इस स्कीम को फिर से लॉन्च किया गया।
– इसके तहत 80 करोड़ लोगों को 5 किलो अनाज नवंबर 2021 तक मुफ्त दिया जाएगा।
– इस स्कीम पर इस साल करीब 93,869 करोड़ रुपए खर्च होंगे।
– वर्ष 2020 और 21 को मिलाकर इस स्कीम पर करीब 2,27,841 करोड़ रुपए खर्च होंगे।
– कृषि से संबंधी सब्सिडी और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना पुरानी योजनाएं हैं।

वित्त मंत्री की अन्य घोषणाएं-
– 23220 करोड़ रुपए पब्लिक हेल्थ के लिए
– यह पैसा बच्चों से जुड़ी स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च किया जाएगा।
– इस पैसे से ICU बेड, वेंटिलेटर बेड, एंबुलेंस जैसी सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी।
– केंद्रीय, जिला और सब-जिला स्तर पर ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाई जाएगी।
– टेस्टिंग कैपेसिटी, सप्रोर्टिव डायग्नोस्टिक और टेलीकंसलटेशन जैसी सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी।
– 31 मार्च 2022 तक यह पैसा खर्च किया जा सकेगा।
इस स्कीम में वर्ष 2020 में15 हजार करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं।

कुपोषण- किसानों की आय
– इसके लिए खास गुणों और पोषक तत्वों वाली खेती की नस्लें तैयार की जा रही हैं।
– CAR ने बायो फोर्टिफाइड फसलों की नस्लें तैयार की हैं।
– अलग-अलग तरह से अनाज की 21 वैराइटी उपलब्ध की जाएंगी।
– नॉर्थ ईस्टर्न रीजनल एग्रीकल्चर मार्केटिंग कॉरपोरेशन

– निर्यात को बढ़ावा देने के लिए 88 हजार करोड़ रुपए का एक्सपोर्ट इंश्योरेंस कवर।
– यह सेवा एक्सपोर्ट गारंटी कॉरपोरेशन की ओर से दी जाती है।
– देश के करीब 30% निर्यातकों को इसका लाभ मिलता है।

डिजिटल इंडिया
– भारतनेट ब्रॉडबैंड स्कीम के तहत हर गांव तक इंटरनेट पहुंचाने के लिए 19041 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।
– इस स्कीम का लक्ष्य देश के सभी गांवों में ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी पहुंचाना है।
– 31 मई 2021 तक 2.50 लाख ग्राम पंचायतों में से 1,56,223 गांवों तक ब्रॉडबैंड पहुंच गया है।
– 61,109 करोड़ रुपए में से अब तक 42,068 करोड़ रुपए की घोषणा 2017 में की गई थी।
– बड़ी इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग के लिए PLI
स्कीम
– इस स्कीम में 6 से 4% तक का इंसेंटिव दिया जाता है।
– इसके लिए 1 अगस्त 2020 से आवेदन मांगे जा रहे हैं।
– यह स्कीम पांच साल के लिए लागू होती है।
– अब इसमें लाभ की सीमा 1 साल बढ़ाकर 2025-26 की गई है।
– अब सरकार ने इस स्कीम में पांच साल की अवधि चुनने की छूट दी है।

बिजली सेक्टर के लिए 3.03 लाख करोड़ रुपए
– इस पैसे से बिजली वितरण करने वाली कंपनियों, बिजली वितरण से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार किया जाएगा।
– स्कीम के तहत 25 करोड़ स्मार्ट मीटर, 10 हजार फीडर और 4 लाख किलोमीटर LT ओवरहेड लाइन लगाई जाएगी।
– इस स्कीम में केंद्र की भागीदारी 97,631 करोड़ रुपए होगी।
– राज्यों को पहले ही बिजली वितरण के लिए लोन लेने की सुविधा दी है।

– PPP प्रोजेक्टस और असेट मॉनेटाइजेशन के लिए नई पॉलिसी लाई जाएगी।

——————————
6. भारत ने कोविड-19 की चौथी वैक्‍सीन (मॉडर्ना) को मंजूरी दी, यह किस प्रकार की वैक्‍सीन है?

a. वायरल वैक्‍टर
b. mRNA
c. उपरोक्‍त दोनों
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: b. mRNA

– अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की कोरोना वैक्सीन के भारत में इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है।
– सिप्ला कंपनी को इस वैक्सीन के आयात की इजाजत दी गई है।
– मॉडर्ना को भारत में पहली इंटरनेशनल वैक्सीन इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि यह सीधे इंपोर्ट होगी। देश में इसकी मैन्युफैक्चरिंग नहीं होगी।
– देश को मिलने वाली ये चौथी वैक्सीन है, इससे पहले कोवीशील्ड, कोवैक्सिन और स्पुतनिक-V को भी मंजूरी मिल चुकी है।
– कोवीशील्ड को भारत में सीरम इंस्टीट्यूट बना रहा है।
– जबकि कोवैक्सिन को भारत बायोटेक और ICMR मिलकर बना रहे हैं।
– वहीं रूस की स्पुतनिक-V की मैन्युफैक्चरिंग भारत में डॉ. रेड्डीज लैबोरेट्रीज करेगी।

कितने तरह की वैक्‍सीन
– दो तरह की वैक्‍सीन होती है – mRNA (part of virus genetic code) और वायरल वैक्‍टर (genetical modified vires)

mRNA – मैसेंजर आरएनए
– वायरस के जेनेटिक कोड का एक पार्ट है।
– इस वैक्सीन में हमारी कोशिकाओं को कोरोना वायरस स्पाइक प्रोटीन बनाने के निर्देश होते हैं।
– हमारा शरीर एंटीबॉडी बनाता है, जो वायरस के संपर्क में आने पर प्रोटीन को पहचानते हैं, और उन पर हमला करते हैं।
– ये इम्यून सिस्टम को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाने और टी-सेल को एक्टिवेट कर संक्रमित कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए कहती है।
– इसके बाद जब ये व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित होता है तो उसके शरीर में बनी एंटीबॉडी और टी-सेल वायरस से लड़ने का काम करना शुरू कर देते हैं।
– इससे पहले कभी इंसानों में इस्तेमाल के लिए एमआरएनए वैक्सीन को मंज़ूरी नहीं दी गई है. हालांकि क्लिनिकल ट्रायल के दौरान लोगों को इस तरह की वैक्सीन के डोज़ दिए गए हैं।
– मॉडर्ना के अलावा फाइजर की भी वैक्‍सीन nRNA पर आधारित है।

वायरल वैक्‍टर
– इस वैक्सीन में नुक़सान रहित विषाणु का इस्तेमाल किया गया है जिसमें कुछ ऐसे बदलाव किए गए हैं ताकि ये कोरोना वायरस जैसा लगे।

ये वैक्सीन कितनी असरदार है?
– मॉडर्ना की वैक्सीन की एफिकेसी 94.1% तक बताई गई है।
– दूसरे शब्दों में कहें तो दोनों डोज लेने के बाद वायरस के खिलाफ इसे 94.1% तक प्रभावी बताया गया है।

कितनी वैक्‍सीन आएगी
– अभी भारत को उतनी ही डोज मिलेंगी, जो अमेरिका सरकार ने ‘कोवैक्स’ प्रोग्राम के तहत देने की घोषणा की है।
– हालांकि इस साल के अंत तक कंपनी 20 से 30 करोड़ डोज उपलब्ध करा सकेगी.
– वहीं, अगले साल अंत तक 100 करोड़ डोज सप्लाई किए जाने का अनुमान है.
– कंपनी ने कहा कि वह ग्लोबल मार्केट में 100 करोड़ डोज सप्लाई कर रही है।
– इसे अगले साल तक बढ़ाकर 300 करोड़ डोज करने की तैयारी है. बता दें कि डब्लूएचओ अपने कोवैक्स प्रोग्राम के तहत दुनिया के जरूरतमंद देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराता है।
– भारत में मॉडर्ना की वैक्सीन भी इसी के तहत ही आ रही है।
– भारत ने इसे खरीदने का अभी कोई ऑर्डर नहीं दिया है।

– मॉडर्ना और फाइजर ने भारत सरकार से अपील की थी कि वह इमरजेंसी यूज की इजाजत देने के बाद होने वाले लोकल ट्रायल की बाध्यता को खत्म करे।
– सिप्ला को 100 लोगों पर ट्रायल करना होगा।
– हालांकि, विदेशी वैक्सीन को भारत में अप्रूवल मिलने पर पहले 1500-1600 लोगों पर ट्रायल करना होता था।
– लेकिन 15 अप्रैल को सरकार ने पॉलिसी में बदलाव कर इसे 100 लोगों तक सीमित कर दिया था।

—————————
7. भारत की किस अध्यापिका ने जापान का Order of the Rising Sun सम्मान जीता?

a. अमृत कौर
b. रतन बागीची
c. श्यामला गणेश
d. मोइना अवस्‍थी

Answer: c. श्यामला गणेश

– “ऑर्डर ऑफ राइजिंग सन” पुरस्कार जापान के सम्राट की ओर से दिया जाता है।
– इसे वर्ष 1875 में शुरू किया गया था।
– यह पुरस्कार उन लोगों को दिया जाता है जिन्होंने जापानी संस्कृति को बढ़ावा देने, अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में उपलब्धियों, अपने क्षेत्र में प्रगति और पर्यावरण के संरक्षण में विशिष्ट उपलब्धियां हासिल की हैं।
– इसे द्वितीय विश्व युद्ध से पहले अनुकरणीय सैन्य सेवा के लिए भी दिया जाता था।
– यह जापानी सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरा सर्वोच्च पुरस्कार है।
– जापानी सरकार ने बेंगलुरु बेस्ड जापानी शिक्षिका श्यामला गणेश को ये सम्मानित दिया है।

श्यामला गणेश
– वह श्यामला, सेप्टुजेनिरेनियन संस्थान (Septuagenarian institution) में एक जापानी शिक्षक हैं।
– वह बेंगलुरु में इकाना के ओहरा स्कूल में भी कार्यरत्त हैं।
– उन्होंने 38 साल पहले  स्थापना के बाद से सैकड़ों से अधिक छात्रों को पढ़ाया है।
– इकेबाना (Ikebana) जापानी फूलों की व्यवस्था की कला है।
– श्यामला ने अपने पति गणेश के साथ 1983 में बेंगलुरु में एक जापानी भाषा स्कूल शुरू किया था।

—————————
8. ब्रिटेन का HMS क्वीन एलिजाबेथ कैरियर स्ट्राइक ग्रुप इंडियन नेवी के साथ जुलाई 2021 में कौन सा युद्धाभ्‍यास करेगा?

a. कोंकण वॉर गेम्‍स
b. फ्रीडम एक्‍सरसाइज
c. इंडो यूके अलायंस एक्‍सरसाइज
d. मालाबाद एक्‍सरसाइज

Answer: a. कोंकण वॉर गेम्‍स

– HMS क्वीन एलिजाबेथ कैरियर स्ट्राइक ग्रुप काफी बड़ा एयरक्राफ्ट कॅरियर है।
– यह इस वक्‍त HMS एलिजाबेथ इराक-सीरिया बॉर्डर पर तैनात है।
– वहां पर एंटी ISIS ऑपरेशन में यह भूमिका निभा रहा है।
– यह वॉरशिप अगले महीने साउथ चाइना सी में होने जा रही फुल स्पैक्ट्रम एक्सरसाइज में शामिल होगा।
– तो जाते समय अगले महीने इंडियन नेवी के साथ HMS क्वीन एलिजाबेथ कैरियर स्ट्राइक ग्रुप कोंकण वॉर गेम्‍स युद्धाभ्‍यास करेगा।
– यह युद्धाभ्‍यास बंगाल की खाड़ी में होना है।
– अभी डेट तय नहीं है।
– दरअसल, इसके साथ युद्धभ्‍यास के लिए भारत को भी अपने एकमात्र एयरक्राफ्ट कॅरियर विक्रमादित्‍य को सामने लाना पड़ेगा।
– लेकिन यह अभी रख-रखाव के दौर से गुजर रहा है। इस वजह से युद्धाभ्‍यास का डेट तय नहीं है।

– कैरियर ग्रुप अंडमान और निकोबार द्वीप के आसपास भारत की पनडुब्बियों, P81 एंटी सबमैरिन वॉरफेयर प्लेन्स और मिग-29K फाइटर्स के साथ युद्ध अभ्यास करेगा।

HMS एलिजाबेथ वॉरशिप
– आपको बता दें UK का HMS एलिजाबेथ वॉरशिप को बनाने में 30 हजार करोड़ रुपए की लागत आई थी।
– इसका वजन 65,000 टन (376 ब्लू व्हेल्स के बराबर) है।
– यह एक दिन में 108 हवाई हमले कर सकता है।
– HMS इलस्ट्रिअस का इस्तेमाल 2014 में बंद होने के बाद इसका उपयोग किया जाने लगा था।
– HMS क्वीन एलिजाबेथ को ब्रिटेन के हैम्पशर काउंटी के पोर्ट्समाउथ में तैयार किया गया था।

—————————
9. जापान ने प्रतिष्ठित ‘फुकुओका पुरस्कार 2021′ के लिए किस भारतीय को चुना?

a. रवीश कुमार
b. पी साईनाथ
c. देविका रानी
d. बीएन सरकार

Answer: b. पी साईनाथ

– उनका पूरा नाम पालागुम्मि साईनाथ है।
– वह वरिष्ठ पत्रकार हैं और पीपुल्स आर्काइव ऑफ रूरल इंडिया के संस्थापक संपादक भी।
– अब तक 11 भारतीयों को फुकुओका पुरस्कार मिल चुका है।
– संगीतकार एआर रहमान और इतिहासकार रामचंद्र गुहा को भी इस पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।
– पी साईनाथ को फुकुओका ग्रैंड प्राइज पुरस्कार के लिए चुना गया है।

ग्रैंड प्राइज
– बांग्लादेश के मोहम्मद यूनुस, इतिहासकार रोमिला थापर और सरोद वादक अमजद अली खान को मिल चुका है।
– 30 वर्षों में 28 देशों और क्षेत्रों के लगभग 115 लोगों ने यह पुरस्कार प्राप्त किया है।

– फुकुओका पुरस्कार में तीन श्रेणियां हैं- ग्रैंड प्राइज, शैक्षणिक पुरस्कार और कला व संस्कृति पुरस्कार।
– अकादमिक पुरस्कार जापान के प्रो. किशिमोतो मियो को मिला।
– जबकि कला और संस्कृति का पुरस्कार थाईलैंड की फिल्म निर्माता प्रबदा यून को मिला।

पलागुम्मी साईनाथ-
– पालागुम्मि साईनाथ का जन्म 1957 में आंध्र प्रदेश में हुआ था।
– वह देश के भूतपूर्व राष्ट्रपति वीवी गिरी के पोते और कांग्रेस नेता वी शंकर गिरि के भांजे है।
– “Everybody Loves a Good Drought” नामक पुस्तक के लेखक हैं।
– वह किसानों के मुद्दों पर सक्रिय रूप से प्रचार कर रहे हैं।
– उन्हें 2007 में रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था क्योंकि उनका मानना है कि “पत्रकारिता लोगों के लिए है, शेयरधारकों के लिए नहीं”।
– उन्होंने 2014 में People’s Archive of Rural India की स्थापना की, जो भारत में सामाजिक और आर्थिक असमानता, गरीबी, और वैश्वीकरण पर ध्यान केंद्रित करने वाला एक ऑनलाइन मंच है।

फुकुओका पुरस्कार
– इसकी शुरूआत जापान में वर्ष 1990 में हुई थी।
– यह फुकुओका शहर और फुकुओका सिटी इंटरनेशनल फाउंडेशन द्वारा स्थापित एक पुरस्कार है।
– यह एशियाई संस्कृति के संरक्षण और निर्माण में व्यक्तियों या संगठनों के काम का सम्मान करने के लिए दिया जाता है।

—————————-
10. राष्ट्रीय सांख्यिकी दिवस (national statistics day) कब मनाया जाता है?

a. 30 जून
b. 29 जून
c. 28 जून
d. 27 जून

Answer: b. 29 जून

– सांख्यिकी के महत्त्व के बारे में जागरुकता पैदा  के लिए हर साल ये दिवस मनाया जाता है।
– यह दिन भारत के प्रख्यात सांख्यिकीविद दिवंगत प्रशांत चंद्र महालनोबिस की जन्मतिथि के अवसर पर मनाया जाता है।
– उन्‍हें भारतीय सांख्यिकी के जनक के रूप में जाना जाता है।

—————————–
11. सपोर्टिंग आंध्र लर्निंग ट्रांसफॉर्मेशन (SALT) कार्यक्रम किस राज्‍य में शुरू किया है, जिसके लिए विश्‍व बैंक ने ऋण को मंजूरी दी?

a. केरल
b. तमिलनाडु
c. कर्नाटक
d. आंध्र प्रदेश

Answer: d. आंध्र प्रदेश

– आंध्र प्रदेश ने सरकारी स्कूलों में मूलभूत शिक्षा को बदलने के लिए इस SALT कार्यक्रम को शुरू किया है।
– जिसके लिए विश्व बैंक ने 250 मिलियन डॉलर के ऋण को मंजूरी दी है।
– कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य फाउंडेशन स्कूलों को मजबूत करना और शिक्षकों को प्रशिक्षण और कौशल विकास देना है।
– आंध्र प्रदेश की पब्लिक स्कूल शिक्षा प्रणाली में 40 लाख से अधिक बच्चे और 2 लाख शिक्षक हैं।
– ये SALT प्रोग्राम पांच साल का है, सरकार ने सभी आंगनबाड़ियों को प्री-प्राइमरी स्कूलों में परिवर्तित कर नजदीकी स्कूलों से जोड़ दिया है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री- वाईएस जगन मोहन रेड्डी
राज्यपाल- बिस्वा भूषण हरिचंदन
राजधानी- हैदराबाद

—————————–
12. चीन मंगल पर अपना पहला मानव विमान भेजने की तैयारी कर रहा है, उसका कब तक भेजने का लक्ष्‍य है?

a. वर्ष 2033
b. वर्ष 2023
c. वर्ष 2022
d. वर्ष 2031

Answer: a. वर्ष 2033

– चीन मंगल पर 2033 तक अपना पहला मानव विमान भेजने की तैयारी में है।
– इससे पहले चीन ने मंगल ग्रह पर रोबोट को भेजा था।
– चीन के मुख्य रॉकेट निर्माता के प्रमुख वांग शियाओजुन ने 23 जून 2021 को वीडियो द्वारा रूस में एक अंतरिक्ष अन्वेषण सम्मेलन में इसकी जानकारी दी।
– वांग शियाओजुन ने बताया मिशन की शुरुआत करने से पहले हमने मंगल पर रोबोट भेजा था।
– जिससे हम वहां की अधिक जानकारी मिल सकें।
– इसे भेजने का उददेश्‍य मंगल पर इंसानों के रहने के लिए जगह, चालक दल को ग्रह के संसाधनों का उपयोग करने में सक्षम होना, साइट पर ऑक्सीजन पैदा करना और बिजली का उत्पादन करना है।
– 2030 के अंत तक ग्रह से मिट्टी के नमूने लाने के लिए के लिए एक बिना क्रू राउंड-ट्रिप मिशन की भी उम्मीद है।
– अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा भी 2030 तक मंगल पर जाने के लिए तकनीक विकसित कर रही है।
– चीन भी चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव में एक बेस बनाने की योजना कर रहा है।
– चीन ने जून 2021 में तीन अंतरिक्ष यात्रियों को अपने स्पेस स्टेशन पर भेजा था।
– स्पेस स्टेशन ने तीनों अंतरिक्ष यात्रियों की एक वीडियो भी सामने आई है जिसमें तीनों हवा में उड़ते खाने के डिब्बों के बीच बैठे हैं।

चीन के  राष्ट्रपति – शी जिनपिंग
राजधानी- बीजिंग
मुद्रा- युआन

—————————–
13. बीसीसीआई ICC टी-20 वर्ल्ड कप के आयोजन के लिए किस देश को चुना है?

a. भारत और ओमान
b. संयुक्‍त अरब अमीरात और ओमान
c. संयुक्‍त अरब अमीरात और भारत
d. ओमान और इंग्‍लैंड

Answer: b. संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) और ओमान

– T-20 वर्ल्ड कप 2021 का आयोजन पहले भारत में होना था, लेकिन कोविड-19 के चलते इसे यूएई और ओमान में शिफ्ट कर दिया है।
– बीसीसीआई ने फैसला किया कि वह होस्‍ट रहते हुए दूसरे देश में यह आयोजन करवाएगा।
– ICC ने 29 जून 2021 को इस फैसले पर मुहर लगाई है।
– 17 अक्टूबर 2021 में होने वाले टूर्नामेंट का आयोजन यूएई और ओमान में होगा।
– इसका फाइनल 14 नवंबर को खेला जाएगा।
– वर्ष 2016 के बाद यह खेला जाने वाला पहला ICC मेंस T-20 वर्ल्ड कप होगा।
– BCCI के प्रमुख सौरव गांगुली ने बताया
ICC के मुताबिक टूर्नामेंट का मेजबान भारतीय क्रिकेट बोर्ड BCCI ही होगा।
– मैच दुबई, अबू धाबी, शारजाह और ओमान में खेले जाएंगे।

—————————–
14. अविश्‍वास प्रस्‍ताव के बाद प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन ने 28 जून 2021 को इस्‍तीफा दे दिया, ये किस देश का मामला है?

a. स्‍पेन
b. मॉरीशस
c. स्वीडन
d. कनाडा

Answer: c. स्वीडन

– स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन ने संसद से इस्तीफा दे दिया है।
– स्वीडन में 2014 से पीएम रहे डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता लोफवेन ने देश की संसद के अध्यक्ष से नई सरकार बनाने के लिए कहा है।
– लोफनेन ऐसे पहले स्वीडिश नेता हैं जो एक सप्ताह पूर्व संसद में विश्वास मत खो चुके हैं।

—————————

Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here

 

Buy eBooks & PDF

About Us | Help Desk | Privacy Policy | Disclaimer | Terms and Conditions | Contact Us

©2022 Sarkari Job News powered by Alert Info Media Pvt Ltd.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account