Daily Current Affairs, Current Affairs 22 September, Current Affair 22 September 2020, 22 September Current Affairs Question, 22 September Current Affairs 2020, 21 September Current Affairs 2020

   यह 21st & 22nd September 2020 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. कृषि विधेयक पर चर्चा के दौरान हंगामे की वजह से राज्‍यसभा के सभापति ने 21 सितंबर 2020 को कितने सांसदों को निलंबित कर दिया?

a. 5
b. 6
c. 7
d. 8

Answer: d. 8

– यह निलंबन एक सप्‍ताह के लिए हुआ है।

किन सांसदों को निलंबित किया गया :
पार्टी और सांसद
– तृणमूल कांग्रेस : डेरेक ओ’ब्रायन, डोला सेन
– कांग्रेस : राजीव सातव, रिपुन बोरा, सैयद नजीर हुसैन
– माकपा : केके रागेश, ई करीम
– आप : संजय सिंह

किसने फैसला किया
– राज्‍यसभा के सभापति (चेयरमैन) वेंकैया नायडु ने।

क्‍या हुआ था?
– किसान बिलों के विरोध में 20 सितंबर 2020 को राज्‍यसभा में हंगामा हुआ था।
– पहले हंगामा शुरू हुआ, उपसभापति सभापति हरिवशं द्वारा ने सदन का समय बढ़ने को लेकर।
– इसके बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का जवाब पूरा होने के बाद जब बिल पास करने की प्रक्रिया शुरू हुई तो विपक्षी सांसद वोटिंग की मांग करने लगे।
– उपसभापति वोटिंग को तैयार नहीं हुए तो सांसद वेल में आकर हंगामा करने लगे।
– आरोप है कि तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने सदन की रूलबुक फाड़ दी। कुछ सांसदों ने उपसभापति की माइक तोड़ने की कोशिश की।
– इसी की वजह से उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडु ने 8 सांसदों को एक सप्‍ताह के लिए सस्‍पेंड कर दिया।

उपसभापति के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव की मांग खारिज
– विपक्षी दलों ने उपसभापति के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव का नोटिस दिया था।
– आरोप था कि डिप्‍टी चेयरमैन ने सांसदों की मांग के बावजूद वोटिंग की अनुमति नहीं दी और ध्‍वनि मत से बिल पास कर दिया।
– वेंकैया नायडु ने इस अविश्‍वास प्रस्‍ताव को खारिज कर दिया।
– अगर उपसभापति हरिवंश के ख़िलाफ़ विपक्षी सांसदों की ओर से लाया गया अविश्वास प्रस्ताव मंज़ूर कर लिया गया होता तो वे प्रस्ताव के लंबित रहने तक सदन की अध्यक्षता नहीं कर पाते.

– नायडु ने कहा कि सांसदों के द्वारा राज्यसभा में हुआ, उसे अच्छा नहीं कहा जा सकता।

ध्वनि मत की प्रक्रिया
– राज्यसभा के कामकाज से जुड़े रूल 252 से 254 तक में ‘डिविज़न ‘ के चार अलग-अलग तरीक़ों का प्रावधान है.
– पहला तरीक़ा है ध्वनि मत, दूसरा है काउंटिंग, तीसरा है ऑटोमैटिक वोट रिकॉर्डर के ज़रिए मत विभाजन और चौथा तरीक़ा है लॉबी में जाकर पक्ष या विपक्ष में खड़े होना.
– दो प्रक्रियाओं में सांसदों के मत दर्ज नहीं किए जाते हैं जबकि बाक़ी दो तरीक़ों में किस सांसद ने क्या वोट दिया, ये राज्यसभा के रिकॉर्ड में स्थाई रूप से दर्ज किया जाता है.
– काउंटिंग के ज़रिए मत विभाजन का फ़ैसला पूरी तरह से सभापति के विवेक पर निर्भर करता है.
– रूल 253 और रूल 254 के अनुसार सभापति चाहें तो ऑटोमैटिक वोट रिकॉर्डर या फिर सांसदों को लॉबी में खड़ा करके उनके वोट रिकॉर्ड कर सकते हैं.
– सदन के कामकाज से जुड़े नियमों में इस बारे में कोई स्पष्ट प्रावधान नहीं है कि किस मुद्दे पर मत विभाजन कराया जाएगा और किस पर नहीं.

——————————–
2. केंद्र सरकार ने छह फसलों पर 21 सितंबर 2020 को MSP बढ़ा दिया है, इसमें गेहूं का MSP कितना बढ़ाया गया?

a. 5 रुपए
b. 50 रुपए
c. 115 रुपए
d. 225 रुपए

Answer: b. 50 रुपए

– पहले MSP 1925 रु/प्रति क्विंटल था, जिसमें 50 रुपए बढ़ाकर अब 1975 रु/प्रति क्विंटल कर दिया गया है।
– इसमें सबसे ज्‍यादा MSP मसूर का बढ़ाया गया है, 300 रुपए।

ताजा एमएसपी (रुपए प्रति क्विंटल)
फसल पहले अब अंतर
गेहूं 1925 1975 50
जौ 1525 1600 75
सरसों 4425 4650 225
चना 4875 5100 225
कुसुम 5215 5327 112
मसूर 4800 5100 300

MSP क्या है?
– MSP – Minimum Support Price (न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य)
– MSP वह गारंटेड मूल्य है जो किसानों को उनकी फसल पर मिलता है।
– चाहे उस वक्‍त बाजार में उस फसल की कीमतें कम ही क्‍यों न हों।
– यह व्‍यवस्‍था इसलिए कि ताकि बाजार में फसलों की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव का किसानों पर असर न पड़े।
– उन्हें न्यूनतम कीमत मिलती रहे।
– एनएसएसओ की साल 2012-13 की रिपोर्ट के अनुसार देश के 10 फीसदी से भी कम किसान अपने उत्पाद एमएसपी पर बेचते हैं.

अभी चर्चा में क्यों?
– केंद्र सरकार खेती-किसानी के क्षेत्र में सुधार के लिए तीन विधेयक लाई है।
– कई राज्‍यों के किसान और विपक्ष इन विधेयकों के खिलाफ है।
– उसे चिंता है कि कहीं MSP की व्यवस्था बंद नहीं हो जाए।
– दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर साफ कर चुके हैं कि MSP खत्म नहीं होगा।

MSP कब लागू हुआ?
– आज़ादी के बाद पहली बार 60 के दशक की शुरुआत में देश को गंभीर अनाज संकट का सामना करना पड़ा.
– इस दौरान कृषि क्षेत्र के लिए नीतियां बनाई गईं और अनाज का उत्पादन बढ़ाने के लिए हरित क्रांति की शुरुआत की गई.
– इसके बाद अनाज खरीदने के लिए सरकार ने 1964 में खाद्य निगम क़ानून के तहत भारतीय खाद्य निगम बनाया।
– इसके एक साल बाद एग्रीकल्चर प्राइसेस कमीशन बनाया ताकि उचित क़ीमत पर (न्यूनतम समर्थन मूल्य) किसानों से अनाज ख़रीदा जा सके.
– इसी अनाज को बाद में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम, पीडीएस) के तहत सरकार ज़रूरतमंदों को देती है और खाद्य सुरक्षा के लिए अनाज का भंडारण भी करती है.

शांता कुमार समिति रिपोर्ट
– शांता कुमार समिति की अध्यक्षता में वर्ष 2014 में छह सदस्यीय समिति का गठन किया गया था.
– इस समिति को यह सुझाव देना था कि किस प्रकार भारतीय खाद्य निगम के वित्तीय प्रबंधन तथा अनाज के क्रय, भण्डारण और वितरण में संचालनात्मक कौशल कैसे लाया जाए.
– शांता कुमार की रिपोर्ट के अनुसार सरकार को इन-काइंड यानी अनाज की ख़रीद की व्यवस्था ख़त्म करनी चाहिए और सार्वजनिक वितरण प्रणाली की बजाय कैश ट्रांसफर पर ध्यान देना चाहिए.
– इस बिल से जुड़ी व्यापक तस्वीर या कहें लार्जर नैरेटिव यही है.
– इन बिल को उस प्रक्रिया को शुरू करने की कवायद की तरह देखा जा रहा है और ये चिंता का विषय है.

————————————
3. चीन में किस बैक्‍टीरिया के लीक होने की वजह से कई हजार लोगों में Brucellosis बीमारी फैल गई?

a. Brucella
b. Coccus
c. Bacillus
d. Spirillum

Answer: a. Brucella (ब्रूसेला)

– चीन के गांसु प्रांत (Gansu province) की राजधानी लांझोउ (Lanzhou) के स्वास्थ्य आयोग के मुताबिक चीन में इस ब्रुसेलोसिस (Brucellosis) बीमारी से करीब 3,000 लोग इन्‍फेक्‍टेड हो चुके हैं.
– 20 हजार लोगों का टेस्‍ट हुआ और इसमें से 3000 पॉजिटिव पाए गए।

Brucella (ब्रूसेला) बैक्‍टीरयिा का ह्यूमन पर असर?
– यह बैक्‍टीरिया जान नहीं लेता है, लेकिन बॉडी को बुरी तरीके से लंबे समय तक के लिए नुकसान पहुंचाता है।
– बैक्‍टीरिया की वजह से इलनेस होती है, इसका नाम ब्रुसेलोसिस (Brucellosis) बैक्‍टीरियल डिजीज है।
– यह बीमारी ज्‍यादातर जानवरों में पाई जाती है।
– लेकिन यह ह्यूमन में भी हो सकती है।
– हालांकि ह्यूमन टू ह्यूमन ट्रांसफर काफी हद तक रेयर है।
– लेकिन यह पॉसिबल है।

एक व्‍यक्ति को ब्रुसेलोसिस हो गया तो क्‍या होगा?
– टेंपरेरी सिम्‍पटम – हेडेक, बदन दर्द, बुखार।
– लॉंग टर्म इफेक्‍ट – अर्थराइटिस, कई अंगों में सूजन, मेल रिप्रोडकशन ऑर्गन में सूजन आ सकता है।
– शुरुआत में सिमटम कम होते हैं।
– टेस्‍ट लंबे होते हैं।
– बीमारी होने के तीन या चार साल बाद सिम्‍पटम नजर आते हैं।

– बीमारी का अन्‍य नाम : माल्‍टा फीवर।
– सबसे पहले यूरोपीय देश माल्‍टा में पाई गई थी।
– इसके बाद यह यूरोप, एशिया में फैल गया।
– पिछले 20 साल में इसके मामले लोगों में नजर नहीं आए थे।

कहां और कैसे लीक हुआ बैक्‍टीरिया Brucella (ब्रूसेला)
– लांझोउ शहर के बायो-फार्मास्‍विटकल प्‍लांट से एक बैक्‍टीरिया लीक हुआ है।
– सीएनएन के अनुसार जुलाई 2019 में वैक्‍सीन डेवलप कर रहे थे, लैंझाऊ बायोलॉजिक फार्मास्‍यूटिकल फैक्‍ट्री में।
– इसी दौरान बहुत सारे जानवरों को इकट्ठा किया।
– जानवरों में वायरस इजेक्‍ट किया।
– इसके बाद टेस्‍ट किया गया।
– नियम यह है कि जब भी इस तरह के जानवर इकट्ठे किए जाएं तो रेग्‍यूलरली डिस्‍इंफेक्‍टेंट और सैनेटाइजर यूज किए जाएं।
– वहां काम कर रहे लोगों के लिए भी।
– लेकिन वहां पर जो सैनेटाइजर यूज हो रहा था, वो एक्‍सपायर्ड डेट के थे।
– उसका असर नहीं हो रहा था।
– पहले लैब के लोगों में बीमारी फैली, फिर आस-पास के लोगों में बीमारी फैली।

इससे सवाल उठता है कि चीन में लैब हैं, क्‍या ये सेफ हैं?
– चीन में कोई इंडिपेंडेंट मीडिया नहीं है, इसका मीडिया मामलों को दबाने की कोशिश करता है।
– यहां लोकतंत्र नहीं है, तो सवाल भी उठाता नहीं है।

– चीन पर पहले ही आरोप लग चुका है कि कोविड-19 उनकी लैब से निकला था।
– हालांकि चीन इससे इनकार करता है।

————————————-
4. अंतर्राष्‍ट्रीय शांति दिवस (International Day of Peace) कब मनाया जाता है?

a. 20 सितंबर
b. 21 सितंबर
c. 22 सितंबर
d. 23 सितंबर

Answer: b. 21 सितंबर

– इस दिवस को मनाने का उद्देश्‍य विश्‍व स्‍तर पर सभी लोगों के बीच शांति व्‍यवस्‍था को कायम करना, तथा संघर्षों और विवादों को रोकना है।
– इस दिन इंडिया में जगह-जगह पर सफेद कबूतर उड़ाए जाते है।
– सफेद कबूतर शांति का प्रतीक माना जाता है।

– यूनाइटेड नेशन ने वर्ष 1981 में विश्‍व शांति दिवस को मनाने की घोषणा की थी।
– सन् 1982 में इस दिवस पहली बार मनाया गया था।
– इस बार 2020 की थीम- ‘Shaping peace Together’ है।

————————————-
5. इंडियन नेवी के इतिहास में पहली बार जंगी जहाज (Warship) पर तैनात होने वाली महिला अधिकारी का नाम बताएं?

a. लेफ्टिनेंट रीति सिंह
b. लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी
c. लेफ्टिनेंट शिवानी शर्मा
d. a और b दोनों

Answer: d. a और b (लेफ्टिनेंट रीति सिंह और लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्‍यागी)

– उन्‍हें वॉर शिप पर तैनात किया जाएगा।
– इन दोनों को हेलिकॉप्टर स्ट्रीम में ऑब्जर्वर (एयरबोर्न टैक्टिशियंस) के पद के लिए चुना गया है।

– इससे पहले नौसेना में अब तक महिला अफसरों को फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट तक सीमित रखा गया था।

– इंडियन नेवी का यह ऐतिहासिक फैसला है, जब किसी महिला ऑफिसर्स को ‘ऑब्‍जर्वर्स’ (एयरबोर्न टैक्‍टीशियंस) के रूप में चुना गया।

एयरफार्स का भी बड़ा फैसला-
– एयरफोर्स ने भी राफेल फाइटर्स को उड़ाने के लिए एक महिला पायलट को नियुक्‍त किया है।
– महिला पायलट अभी राफेल विमान को उड़ाने की ट्रेनिंग ले रही है।
– इस समय इंडियन एयरफोर्स में लड़ाकू विमानों को उड़ाने वाली 10 महिला पायलट और 18 महिला नेविगेटर है।
– एयरफोर्स में वर्तमान समय में महिला ऑफिसरों की टोटल संख्‍या 1875 है।

———————————
6. वर्ल्‍ड अल्जाइमर्स डे कब मनाया जाता है?

a. 20 सितंबर
b. 21 सितंबर
c. 22 सितंबर
d. 23 सितंबर

Answer: b. 21 सितंबर

अल्जाइमर्स है क्या?
– यह एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को नष्ट करता है।
– इससे मरीज की निर्णय लेने की क्षमता घट जाती है।
– स्वभाव में बदलाव आता है और याददाश्त घटती है।
– जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है यह रोग भी बढ़ता है।
– रोगी को रोजमर्रा के कामों को भी करने में दिक्कतें होती हैं। अल्जाइमर्स उम्र के साथ बढ़ने वाला रोग है।

अल्‍जामर्स डिसीज इंटरनेशनल 2019 की रिपोर्ट के अनुसार
– भारत में 40 लाख लोग घटती याददाश्‍त से जूझ रहे हैं।
– 4.4 करोड़ मरीज दुनिया भर में।
– 2050 तक दुनिया में अल्‍जाइमर्स के मरीजों की संख्‍या 15.2 करोड़ हो जाएगी।

क्या इसका इलाज संभव है?
– अभी तक कोई सटीक उपचार नहीं है।
– लक्षणों के आधार पर ही इसके बारे में पता लगाया जा सकता है।
– इसके लिए डॉक्टर मेंटल टेस्ट, सीटी स्कैन, एमआरआई से मस्तिष्क में होने वाले परिवर्तन और उसके कारण दिखने वाले लक्षणों की जांच करते हैं।
– कुछ दवाओं और लक्षणों में सुधार कर इसके असर को कम किया जा सकता है।

अल्जाइमर्स नाम कैसे पड़ा?
– इस बीमारी का पहला केस 3 नवंबर 1906 को जर्मन मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. अलोइस अल्जाइमर सामने लाए थे।
– इसलिए इस दिन का नाम अल्जाइमर्स डे पड़ा।

अल्जाइमर और डिमेंशिया के बीच का फर्क
– अक्सर लोग अल्जाइमर्स और डिमेंशिया के बीच फर्क नहीं कर पाते।
– डिमेंशिया का मतलब है मेमोरी लॉस।
– अल्जाइमर्स डिमेंशिया का एक प्रकार है।
– डिमेंशिया दो तरह का होता है।
– पहला, वह जिसका इलाज संभव है।
– दूसरा, वो जिसका कोई इलाज नहीं है यानी डीजेनरेटिव डिमेंशिया, अल्जाइमर्स भी इसी कैटेगरी की बीमारी है।

————————————-
7. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 18 सितंबर को किस राज्‍य में कोसी सेतु महासेतु समेत 12 परियोजनाओं का उद्घाटन किया?

a. बिहार
b. पंजाब
c. उत्‍तर प्रदेश
d. दिल्‍ली

Answer: a. बिहार

– इन 12 परियोजनाओं में किउल नदी पर एक रेल सेतु, दो नई रेल लाइनें, पांच विद्युतीकरण से संबंधित, एक इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव शेड और बाढ़ और बख्तियारपुर में तीसरी लाइन परियोजना शामिल है।
– यह कार्यक्रम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित किया।
– कोसी-मिथिलांचल को जोड़ने वाले इस महासेतु का लोग लंबे समय से इंतजार कर रहे थे।
– 2003 में सरायगढ़-निर्मली के बीच कोसी नदी पर रेल महासेतु का शिलान्यास तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने किया था. – इसे साल 2003-04 में 323.41 करोड़ रुपये की लागत से स्वीकृत किया गया था।
– लेकिन समय गुजरने के साथ ही परियोजना पर 516 करोड़ रुपये खर्च हुए।

कोसी रेल महासेतु का महत्व
– रेल महासेतु के शुरू होने से आसपास के क्षेत्र के लोगों का उत्तरपूर्वी क्षेत्रों के साथ संपर्क काफी आसान हो जाएगा।
– बता दें कि 1887 में निरमाली और भापतियही (सरायगढ़) के बीच मीटर गेज का निर्माण किया गया था।
– भारी बाढ़ और 1934 में आए विनाशकारी भूंकप से यह रेल लिंक बह गया।
– सरकार ने साल 2003-04 को कोसी मेगा ब्रिज प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी थी।
– इस पुल से नेपाल सीमा पर भारत की स्थिति मजबूत होगी।

———————————–
8. महामारी के दौरान डॉक्टरों और हेल्थ वर्कर्स पर हमला को गैर-जमानती अपराध बनाने के लिए राज्‍यसभा ने किस कानून में बदलाव के लिए महामारी संशोधन विधेयक (Epidemic amendment bill) 2020 पास किया?

a. महामारी रोग अधिनियम, 1897
b. आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005
c. आईपीसी,1860
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: a. महामारी रोग अधिनियम, 1897
(Epidemic diseases act 1897)

– इस विधेयक के जरिए 123 साल पुराने कानून में बदलाव किया जा रहा है।
– हमला होने पर दोषी को सात साल तक की जेल और पांच लाख तक का जुर्माना हो सकता है।

– इस साल अप्रैल में देश के स्वास्थ्य कर्मचारियों के खिलाफ हमलों के लिए कड़ी सजा देने के लिए महामारी रोग अधिनियम, 1897 में संशोधन करने के लिए सरकार अध्यादेश लाई थी।
– अब इसे कानून बनाने के लिए संसद में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने विधेयक पेश किया।

कानून से फायदा किसे होगा?
– डॉक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स, आशा कार्यकर्ताओं को फायदा होगा जो अपनी जान की परवाह किए बगैर कोरोना से निपटने में सेवाएं दे रहे हैं।

अपराध किस तरह का माना जाएगा?
– इस तरह का अपराध संज्ञेय (नॉन बेलेबल) होगा।
– संज्ञेय यानी बिना वॉरंट के गिरफ्तारी हो सकती है।
– बिना अदालत की मंजूरी के जांच शुरू हो सकती है।
– अपराध गैर-जमानती भी होगा।
– गैर-जमानती यानी जमानत सिर्फ अदालत से ही मिलेगी।

जांच कैसे होगी?
– जांच अधिकारी को 30 दिन के भीतर जांच पूरी करनी होगी।
– एक साल में अदालत को फैसला देना होगा।

सजा कैसे तय होगी?
– डॉक्टर्स-हेल्थ वर्कर्स पर हमले के दोषी पाए गए तो 3 महीने से 5 साल तक की सजा होगी।
– 50 हजार से 2 लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।
– अगर हमले में गंभीर चोट आई है तो 6 महीने से 7 साल तक की सजा और एक लाख से 5 लाख तक जुर्माना लगाया जा सकता है।

अगर संपत्ति का नुकसान हुआ तो क्या होगा?
– अगर डॉक्टरों-हेल्थ वर्कर्स की गाड़ी और क्लीनिक का नुकसान होता है तो उसकी मार्केट वैल्यू का दोगुना हमला करने वालों से वसूला जाएगा।

क्या अध्यादेश सिर्फ हमलों तक सीमित रहेगा?
– अगर किसी हेल्थ वर्कर को उसका मकान मालिक या पड़ोसी इसलिए परेशान करता है कि उसके कामकाज की वजह से उसमें कोरोना का संक्रमण होने का खतरा है तो भी इस अध्यादेश के जरिए बदले हुए कानून को लागू किया जा सकता है।

क्‍या है महामारी रोग अधिनियम, 1897
– महामारी अधिनियम, 1897 अंग्रेजी हुकूमत द्वारा बनाया गया 123 साल पुराना कानून है।
– यह कानून उस दौर में मुंबई में प्लेग की महामारी फैलने के बाद बनाया गया था।
– इस कानून में चार धाराएं शामिल हैं।
– इसमें राज्यों को यह अधिकार दिया गया है कि वो रेल या फिर किसी भी अन्य परिवहन से यात्रा कर रहे लोगों की चेकिंग कर सकते हैं।
– इस कानून में विरोध कर रहे लोगों को हिरासत में लेने और उन्हें भर्ती करने की भी शक्तियां दी गई हैं।
– इस कानून में सदभावना के लिए काम कर रहे कर्मियों की सुरक्षा की भी बात कही गई है।
– इसके अलावा कानून का उल्लंघन करने वालों पर दंड का भी प्रावधान है।
– कानून के तहत सरकार के निर्देशों का अगर कोई व्यक्ति उल्लंघन करता है तो धारा 188 के तहत कानूनी कार्रवाई की जाती है।

क्‍या है आईपीसी 188
– आईपीसी की धारा 188 का जिक्र महामारी कानून के सेक्शन 3 में किया गया है. इसके तहत…
– अगर आप किसी सरकारी कर्मचारी द्वारा दिए निर्देशों का उल्लंघन करते हैं तो आप पर यह धारा लगाई जा सकती है!
कितनी सजा हो सकती है
– धारा 188 के तहत अगर नियम तोड़ा तो कम से कम एक महीने की जेल या 200 रुपये जुर्माना या दोनों की सजा दी जा सकती है.
– दूसरा- अगर आदेश के उल्लंघन से मानव जीवन, स्वास्थ्य या सुरक्षा, को खतरा हुआ तो कम से कम 6 महीने की जेल या 1000 रुपये जुर्माना या दोनों की सजा दी जा सकती है।

—————————————
9. इंडिया हैप्पीनेस रिपोर्ट 2020 के अनुसार समग्र खुशहाली रैंकिंग (overall happiness ranking) में कौन सा राज्‍य पहले स्‍थान पर है?

a. मिजोरम
b. उत्‍तर प्रदेश
c. पंजाब
d. बिहार

Answer: a. मिजोरम

– सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कवर करने वाली पहली ऑल इंडिया हैप्पीनेस रिपोर्ट 2020 जारी की गई है।
– यह स्‍टडी मैनेजमेंट डेवलपमेंट इंस्‍टीट्यूट (गुड़गांव) के प्रोफेसर राजेश के पिलानिया द्वारा की गई है और, मार्च व जुलाई 2020 के दौरान 16,950 लोगों के साथ किए राष्ट्रव्यापी सर्वे पर आधारित है।

राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों की समग्र खुशहाली रैंकिंग
1. मिजोरम
2. पंजाब
3. अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह

बड़े राज्य
1. पंजाब
2. गुजरात
3. तेलंगाना

छोटे राज्‍य
1. मिजोरम
2. सिक्किम
3. अरुणाचल प्रदेश

केंद्र शासित प्रदेश
1. अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह
पुडुचेरी
2. लक्षद्वीप

खुशहाली पर COVID-19 का सबसे बुरा प्रभाव पड़ने वाले राज्य और केंद्र शासित प्रदेश:
– महाराष्ट्र
– दिल्ली
– हरियाणा

– मणिपुर, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और लक्षद्वीप में खुशहाली पर COVID -19 का सबसे कम प्रभाव देखा गया।


UN के वर्ल्‍ड हेप्‍पीनेस इंडेक्‍स 2020 में 156 देशों में भारत का स्‍थान 144 है।
– पहले स्‍थान पर फिनलैंड है।
– यह रिपोर्ट मार्च 2020 में जारी हुई थी।

———————————–
10. यूपी सरकार ने किस शहर के निर्माणाधीन मुगल म्यूजियम का नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर करने की घोषणा की है?

a. वाराणसी
b. आगरा
c. लखन
d. कानपुर

Answer: b. आगरा

– मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 14 सितंबर को ये बयान दिया।
– ताजमहल के पूर्वी गेट पर बन रहा यह संग्रहालय करीब 150 करोड़ का प्रॉजेक्ट है।
– उन्होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार राष्ट्रवादी विचारों को पोषित करने वाली है।
– सीएम योगी ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज हमारे नायक हैं।
– पर्यटन विभाग के अनुसार, इस संग्रहालय में मुगलकालीन वस्तुओं और दस्तावेजों को प्रदर्शित किया जाएगा।
– इसके अलावा छत्रपति शिवाजी महाराज के कालखंड से जुड़ी चीजें भी इस संग्रहालय का हिस्सा होंगी।
– सरकार ने पर्यटन विभाग के अधिकारियों के माध्यम से म्यूजियम में मराठा साम्राज्य के कालखंड की तमाम चीजों का प्रदर्शित करने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

———————————–
11. संयुक्त राष्ट्र ने सतत विकास लक्ष्य (UN Sustainable Development Goals) 2020 के युवा प्रणेताओं की सूची में भारत के किस युवा को शामिल किया है?

a. मानी मंगलम
b. उदित सिंघल
c. सचिन गोलस
d. सुदीप भारती

Answer: b. उदित सिंघल

– भारत के 18 वर्षीय उदित सिंघल का नाम 2020 की 17 युवाओं की सूची में शामिल किया गया है।
– उदित ग्लास2सैंड के संस्थापक हैं, जो एक कचरा रहित पारिस्थितिकी तंत्र है।
– और इसमें दिल्ली में कांच के बढ़ते कचरे से निपटने की दिशा में काम किया जा रहा है।
– इस पहल के तहत कांच की बोतलों को कचरा घरों में फेंकने से रोका जाता है।
– और इन्हें व्यवसायिक रूप से मूल्यवान रेत में तब्दील किया जाता है।

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव: एंटोनियो गुटेरेस

————————————
12. भारतीय रेलवे विमानों के किराए की तर्ज पर अत्यधिक व्यस्त स्टेशनों पर यात्रियों से किराए में अतिरिक्‍त शुल्‍क लेगा, इसे क्‍या नाम दिया गया है?

a. एक्स्ट्रा मनी
b. टिकट चार्ज
c. यूजर चार्ज
d. राजस्‍व चार्ज

Answer: c. यूजर चार्ज

– अगर आप भीड़भाड़ वाले स्टेशनों से ट्रेन पकड़ेंगे तो आपकी यात्रा थोड़ी महंगी हो सकती है।
– यूजर चार्ज टिकट की कीमत में ही शामिल किया जाएगा।
– जैसा कि एयर टिकट में लिया जाता है।
– रेलवे इस पैसे को स्टेशनों के पुनर्विकास और वहां के इन्फ्रास्ट्रक्चर को आधुनिक रंग-रोगन देने में खर्च करेगा।
– 17 सितम्बर 2020 को रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने इस बारे में जानकारी दी।
– कहा, उन स्टेशनों पर यूजर चार्ज वसूलने का नोटिफिकेशन जारी करेंगे जिन्हें रीडिवेलप किया जा रहा है।
– उन्होंने कहा कि यूजर चार्ज इतना कम होगा कि यात्रियों को परेशानी नहीं होगी।
– चयरमैन ने बताया 7 हजार रेलवे स्टेशन हैं जिनमें 10 से 15 प्रतिशत स्टेशनों पर ही यूजर फी लिया जाएगा।
– 700 से 750 रेलवे स्टेशन ऐसे होंगे जहां अगले पांच वर्षों में भीड़भाड़ बढ़ने का अनुमान है।


Free Notes PDF of Toady’s Current Affairs : Download – Click Here

Free One Liner MCQ PDF –  Current Affairs: Download – Click Here

आप यूट्यूब चैनल सरकारी जॉब न्‍यूज पर भी करेंट अफेयर्स के वीडियो को देख सकते हैं।

 


0 Comments

Leave a reply

About Us | Help Desk | Privacy Policy | Disclaimer | Terms and Conditions | Contact Us

©2022 Sarkari Job News powered by Alert Info Media Pvt Ltd.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account