Daily Current Affairs, Current Affairs 19th July 2021, Current Affairs 19th July 2021, Current Affair 19th July 2021 Question, Current Affairs 19 July 2021, Current Affairs, 19 July 2021 Current Affairs,

यह  19th July 2021 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. भारतीय मंत्रियों, जज, पत्रकारों सहित 300 लोगों की जासूसी के लिए इजरायल के किस स्‍पाइवेयर के इस्‍तेमाल का खुलासा हुआ?

a. वेगासस
b. पेगासस
c. एनएसओ
d. विस्‍फो

Answer: a. पेगासस (Pegasus)

– पेगासस स्पायवेयर एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम है।
– इस स्‍पाइवेयर का इस्‍तेमाल करके किसी भी व्‍यक्ति के फोन को उसी का जासूस बना दिया जाता है।
– जिसका फोन हैक हो जाता है, उसे इसका पता ही नहीं चलता।

किसने किया खुलासा?
– यह खुलासा दुनियाभर के 17 मीडिया ग्रुप ने मिलकर किया है।
– इन संस्‍थानों में इंडिया का न्‍यूज ऑर्गेनाइजेशन ‘द वायर’, अमेरिका का वाशिंगटन पोस्‍ट, ब्रिटेन का द गार्जियन शामिल है।
– इसकी जांच फ्रांस की संस्‍था फॉबिडेन स्‍टोरीज और एमनेस्‍टी इंटरनेशनल के फॉरेंसिक लैब में हुई।
– इस जांच (इन्‍वेस्टिगेशन) को ‘पेगासस प्रोजेक्‍ट’ नाम दिया गया है।

भारत में जासूसी
– जासूसी की कोशिश दुनिया के बहुत सारे देशों में वहां की सरकार ने की है।
– ‘पेगासस प्रोजेक्‍ट’ रिपोर्ट के अनुसार ‘अज्ञात भारतीय एजेंसी’ ने निगरानी रखने के लिए 40 से अधिक भारतीय पत्रकारों को चुना था।
– उनके अलावा भारत के केंद्रीय मंत्री, विपक्ष के नेता, सुप्रीम कोर्ट के दो जज, कारोबारी, सरकारी अफसर, वैज्ञानिक, सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं।
– कइयों के फोन में स्‍पाइवेयर पेगासस को इंजेक्‍ट करने के सबूत मिले हैं। (आगे इनके नाम भी बताए गए हैं – )
– हालांकि भारत सरकार ने जासूसी के आरोपों का खंडन किया है।

जासूसी के लिए कैसे इस्‍तेमाल हुआ स्‍पाइवेयर
– जासूसी के लिए इजरायल की एक प्राइवेट साइबरसिक्‍योरिटी कंपनी NSO का बनाया हुआ स्‍पाइवेयर का इस्‍तेमाल हुआ।
– इसका नाम है पेगासस।
– NSO का कहना है कि वह सिर्फ दुनिया की सरकारों को यह स्‍पाइवेयर बेचती है। किसी निजी संगठन या व्‍यक्ति को नहीं।
– इस स्‍पाइवेयर को किसी भी फोन में कई तरह से पहुंचाया जाता है, जैसे SMS, WhatsApp, iMassage या अननोन सोर्स से।
– वाट्सएप में एक कॉल के जरिए यह स्‍पाइवेयर मोबाइल फोन में घुस जाता है।
– अगर आप कॉल को रिसीव नहीं भी करते हैं, तो भी पेगासस फोन में एंटर हो जाता है।
– इससे हैकर को स्‍मार्टफोन के माइक्रोफोन, कैमरा, मैसेज, ईमेल, पासवर्ड और जीपीएस लोकेशन, स्‍टोरेज, ईमेल का एक्‍सेस मिल जाता है।
– पेगासस, एन्क्रिप्‍टेड ऑडियो स्‍ट्रीम सुनने और एन्क्रिप्‍टेड मैसेज को पढ़ने की अनुमति देता है।
– यानी हैकर के पास आपके फोन की सभी फीचर तक पहुंच होती है।

इसका मतलब?
– मतलब कि आपका फोन, आपका ही जासूस बन जाता है।
– आप चाहे जितनी भी सुरक्षा के इंतजाम कर लें, अगर आपके पास फोन मौजूद है, तो आपकी जासूसी हो सकती है।
– मोबाइल फोन में स्‍पाइवेयर पेगासस एक बार आ गया, तो आपको पता भी नहीं चलेगा।
– इसके बाद आप घर में बैठकर क्‍या बात कर रहे हैं, यह कोई सुन रहा होगा।
– आपने फोन हाथ में लिया है, तो इसका कैमरा बिना आपकी मर्जी के वीडियो स्‍ट्रीम भेज देगा।
– आज जमाना एन्क्रिप्‍टेड मैसेज का है, ताकि बीच में कोई उसे पढ या सुन नहीं सके, लेकिन स्‍पाइवेयर पेगासस के लिए यह सब मायने नहीं रखता है।

कैसे जांच हुई?
– 2019 में वॉट्सऐप ने कनाडा के सिटिज़न लैब के साथ मिलकर इस ऐप की सुरक्षा में सेंध लगाने को लेकर हुए पेगासस हमले को लेकर इससे प्रभावित हुए दर्जनों भारतीयों को चेताया था।
– इसके बाद दुनियाभर के 17 न्‍यूज ऑर्गेइनाइजेशन और एमनेस्‍टी के सिक्‍योरिटी लैब को NSO के लीक हुए नंबर की सूची मिली।
– इसके बाद लिस्‍ट में से ऐसे कई पत्रकारों के फोन का फॉरेंसिक विश्‍लेषण हुआ, जिन्‍होंने इसके लिए सहमति दी।
– हालांकि, इस साझा इन्वेस्टिगेशन से यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि वे सभी पत्रकार, जिनके नंबर लीक हुई सूची में मिले हैं, की सफल रूप से जासूसी की गई या नहीं।
– इसके बजाय यह पड़ताल सिर्फ यह दिखाती है कि उन्हें 2017-2019 के बीच आधिकारिक एजेंसी या एजेंसियों द्वारा लक्ष्य के बतौर चुना गया था।
– यह भी बात सामने आ रही है कि ‘पेगासस प्रोजेक्ट’ रिपोर्ट में जितने पत्रकारों की लिस्‍ट सामने आ रही है, उससे भी बड़ी लिस्‍ट हो सकती है, जिसकी निगरानी की जा रही होगी।

किसने की जासूसी की कोशिश?
– पेगासस को डेवलप करने वाली इजराइली कंपनी NSO का कहना है कि वह इस स्‍पाइवेयर को केवल सरकारों को ही बेचती है।
– NSO पेगासस वाली सर्विस देने के लिए अच्छा खासा पैसा लेती है।
– वो अपने क्लाइंट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं देता है किसको बेचा है कौनसी सरकार है।
– न्‍यूज ऑर्गेनाइजेशन ‘द वायर’ ने कहा है कि 2017 और 2019 के बीच एक अज्ञात भारतीय एजेंसी ने निगरानी रखने के लिए 40 से अधिक भारतीय पत्रकारों को चुना था।
– ऐसे में शक सरकार पर जाता है। लेकिन में

भारत सरकार ने जासूसी के मामले पर क्‍या कहा?
– लेकिन भारत सरकार ने ‘पेगासस प्रोजेक्‍ट’ के आरोपों से इनकार किया है।
– सरकार ने कहा है कि सरकारी निगरानी के आरापों का कोई ठोस आधार नहीं है।
– द वायर की रिपोर्ट पब्लिश होने के तुरंत बाद केंद्र सरकार ने इस पर जवाब देते हुए कहा है कि सरकार ने देश में किसी का भी फोन गैरकानूनी रूप से हैक नहीं किया है।
– IT मिनिस्ट्री (वर्तमान में मंत्री अश्‍वनि वैष्‍णव) की तरफ से जारी चिट्ठी में कहा गया है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मसलों पर तयशुदा कानूनी प्रक्रिया का पालने करते हुए ही किसी का फोन टेप करने की इजाजत दी जा सकती है।
– भारत एक मजबूत लोकतंत्र है, जो अपने सभी नागरिकों को मौलिक अधिकार के रूप में निजता के अधिकार को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

NSO ने क्‍या कहा?
– NSO ने इस लिस्‍ट को विवादित बताया है।
– उसने कहा है कि ये लिस्‍ट ‘पेगासस’ का इस्‍तेमाल करने वाले सरकारों द्वारा टार्गेट किए गए लोगों के लिए नहीं हैं।
– पेगासस प्रोजेक्‍ट के पार्टनर्स को कंपनी ने एक लेटर में कहा कि ये लिस्‍ट उन नंबरों की हो सकती है, जिन्‍हें NSO समूह कस्‍टमर ने किसी और काम के लिए इस्‍तेमाल किया है।

भारत में किसे टार्गेट किया गया?
– द वॉयर के अनुसार 40 भारतीय पत्रकारों को निशाना बनाया गया।
– जबकि वॉशिंगटन पोस्ट और द गार्जियन के अनुसार 3 प्रमुख विपक्षी नेताओं, 2 मंत्रियों और एक जज की भी जासूसी की पुष्ट हो चुकी है, हालांकि इनके नाम नहीं बताए हैं।
– ‘पेगासस प्रोजेक्‍ट’ रिपोर्ट के अनुसार इनके फोन को पेगासस पाया गया या संभावित हैकिंग के निशाने पर लिया गया –
– द हिन्‍दू की विजेता सिंह (गृह मंत्रालय कवर करती हैं)
– हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स के एडिटर शिशिर गुप्‍ता, एडिटोरियल पेज के संपाद प्रशांत झा, पूर्व पॉलिटिकल एडिटर औरंगजेब नक्‍शबंदी
– इंडियन एक्‍सप्रेस के डिप्‍टी एडिटर सुशांत सिंह (जब वे अन्य रिपोर्ट्स के साथ फ्रांस के साथ हुई विवादित रफ़ाल सौदे को लेकर पड़ताल कर रहे थे)
– इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्टर ऋतिका चोपड़ा
– इंडिया टुडे के संदीप उन्‍नीथन (जो डिफेंस रिलेटेड रिपोर्टिंग करते हैं)
– टीवी 18 के मनोज गुप्‍ता (इन्‍वेस्टिगेशन और सुरक्षा मामलों के संपादक)
– द वायर के फाउंडिंग एडिटर सिद्धार्थ वरदराजन और एमके वेणु, पत्रकार रोहिणी सिंह।
– द पायनियर के इनवेस्टिगेटिव रिपोर्टर जे. गोपीकृष्‍णन (जिन्‍होंने 2जी टेलीकॉम घोटाले का खुलासा किया था)
– ईपीडब्ल्यू के पूर्व संपादक परंजॉय गुहा ठाकुरता।
– द ट्रिब्यून की डिप्लोमैटिक रिपोर्टर स्मिता शर्मा, आउटलुक के पूर्व पत्रकार एसएनएम अब्दी और पूर्व डीएनए रिपोर्टर इफ्तिखार गिलानी।

कितने देशों में स्‍पाइवेयर ‘पेगासस’ से जासूसी
– वैसे तो दुनियाभर के ज्‍यादातर देशों में ‘पेगासस’ के जरिए जासूसी की कोशिश हुई।
– अगर बात करें पत्रकारों की जासूसी की कोशिश की, तो (Map) इसमें भारत, कनाडा, यूएई, कजाकिस्‍तान, ब्रिटेन, फ्रांस, स्‍पेन, तुर्की, हंगरी, मोरक्‍को, अल्‍जीरिया, यूगांडा आदि देश शामिल हैं।
– ‘फॉबिडेन स्‍टोरीज’ (जिसके नेतृत्‍व में जांच हुई) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है – PEGASUS: THE NEW GLOBAL WEAPON FOR SILENCING JOURNALISTS
– सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खगोशी के मामले में यह बात सामने आई है कि हत्‍या से पहले उनकी पत्‍नी का मोबाइल फोन ‘पेगासस’ के जरिए हैक किया गया था।
– जमाल खगोशी की हत्‍या के मामले में सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस सलमान निशाने पर रहे हैं।

————————-
2. केन्द्र शासित प्रदेश (UT) जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए साझा उच्च न्यायालय’ (High court) के नाम को बदलकर अब क्‍या किया गया है?

a. जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख उच्च न्यायालय
b. जम्मू और कश्मीर एंड लद्दाख उच्च न्यायालय
c. हाईकोर्ट आफ जम्‍मू एंड कश्‍मीर
d. हाईकोर्ट आफ जम्‍मू एंड लद्दाख

Answer: a. जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख उच्च न्यायालय

– राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस बदलाव के लिए जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन (मुश्किल निवारण) आदेश, 2021 पर हस्ताक्षर किया।
– कानून मंत्रालय के विधि विभाग ने 16 जुलाई 2021 को इस आदेश को अधिसूचित (notified) किया।
– आदेश में कहा गया है कि जम्मू -कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 को जम्मू-कश्मीर राज्य को केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में पुनर्गठित करने के लिए बनाया गया था।
– आदेश में कहा गया है कि ‘केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और केंद्र शासित लद्दाख का संयुक्त उच्च न्यायालय नाम बड़ा है, इसलिए इसे जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख उच्च न्यायालय कर दिया गया है।
– पहले इसका नाम जम्‍मू-कश्‍मीर हाईकोर्ट था।

—————————
3. किस देश में राजदूत की बेटी के अपहरण के बाद अफगानिस्‍तान ने वहां से सभी राजनयिकों को वापस बुला लिया?

a. चीन
b. ईरान
c. पाकिस्‍तान
d. भारत

Answer: c. पाकिस्‍तान

– दोनों देशों के बीच तालिबान को लेकर पहले से ही तनाव चल रहा है।
– अफगानिस्‍तान के प्रेसिडेंट अब्‍दुल गनी ने पाकिस्‍तान पर आरोप लगाया था कि वहां से 10 हजार जिहादी अफगानिस्‍तान में तालिबान की मदद के लिए घुसे हैं।

– इसी बीच 17 जुलाई को पाकिस्‍तान में अफगानिस्‍तान के राजदूत नजीबुल्‍लाह अलीखिल की बेटी सिलसिला का अपहरण हो गया।
– रिपोर्ट के अनुसार, अफगान राजदूत की बेटी सिलसिला का अपहरण करने के बाद अमानवीय तरीके से टॉर्चर किया गया। उनकी हड्ड‍ियां तक तोड़ दी गईं।
– अपहरण से मुक्‍त होने के बाद उनका इलाज चल रहा है।
– इस खौफनाक घटना के बाद भी शर्मनाक हरकतों का दौर जारी रहा। – सिलसिला अलीखिल की एक खून से सनी फर्जी तस्‍वीर को सोशल मीडिया में वायरल कर दिया गया।
– इसके बाद बेबस बाप को अपनी बेटी की असली तस्‍वीर को जारी करना पड़ा।

– इस घटना के बाद अफगानिस्तान ने इस्लामाबाद में अपने राजदूत की बेटी के अपहरण के मामले में सख्त कदम उठाते हुए दूतावास के कर्मचारियों को वापस बुला लिया है।
– राष्ट्रपति अशरफ गनी के आदेश के बाद पाकिस्तान में अफगानिस्तान के राजदूत और दूसरे अन्य राजनयिक इस्लामाबाद छोड़कर काबुल लौट आए हैं।

————————
4. किस भारतीय अर्थशास्त्री (Indian economist) को अर्थशास्त्र के लिए हम्बोल्ट रिसर्च अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है?

a. मुरली थाप
b. सायली गोस्‍वामी
c. कौशिक बसु
d. अमर प्रकाश

Answer: c. कौशिक बसु

– भारतीय अर्थशास्त्री कौशिक बसु को 6 जुलाई 2021 को हम्बोल्ट रिसर्च अवॉर्ड (Humboldt Research Award) से सम्मानित किया।
– उन्हें यह पुरस्कार जर्मनी के हैम्बर्ग में बुसेरियस लॉ स्कूल के प्रोफेसर डॉ हंस-बर्न्ड शेफ़र ने दिया था।
– कौशिक बसु कॉर्नेल विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर हैं।
– वह विश्व बैंक के पूर्व मुख्य अर्थशास्त्री भी रह चुके हैं।
– बसु 2009 से 2012 तक भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार (economic advisor) भी रहे।
– उन्‍हें पद्म भूषण भी मिल चुका है।

हम्बोल्ट रिसर्च अवॉर्ड क्या है?
– ये एक प्रतिष्ठित पुरस्कार है जो अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट फाउंडेशन द्वारा प्रायोजित है।
– और हर वर्ष 100 प्राप्तकर्ताओं को दिया जाता है।
– हम्बोल्ट रिसर्च अवॉर्ड दुनिया भर के वैज्ञानिकों और अर्थशास्त्रियों को उनके काम के लिए दिया जाता है।
– इस पुरस्कार में 60,000 यूरो की पुरस्कार राशि और जर्मनी में एक वैज्ञानिक संस्थान में 12 महीने तक अनुसंधान परियोजनाओं (research projects) में शामिल होने का भी मौका मिलता है।

————————-
5. भारत में जन्‍मे किस देश के पूर्व राष्‍ट्रपति ममनून हुसैन का निधन 14 जुलाई 2021 को हो गया?

a. बांग्‍लादेश
b. श्रीलंका
c. चीन
d. पाकिस्‍तान

Answer: d. पाकिस्‍तान

– उनका जन्‍म 1940 में आगरा में हुआ था।
– वर्ष 1947 में अपने माता-पिता के साथ वह पाकिस्‍तान चले गए थे।
– ममनून हुसैन, सितंबर 2013 से सितंबर 2018 तक पाकिस्‍तान के 12वें राष्‍ट्रपति रहे।

————————
6. विश्‍व अंतर्राष्‍ट्रीय न्‍याय दिवस (World Day for International Justice) कब मनाया जाता है?

a. 18 जुलाई
b. 17 जुलाई
c. 16 जुलाई
d. 15 जुलाई

Answer: b. 17 जुलाई

– इस दिवस को अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्याय दिवस या अंतर्राष्ट्रीय न्याय दिवस के रूप में भी जाना जाता है।
– विश्व अंतर्राष्ट्रीय न्याय दिवस अंतर्राष्ट्रीय अपराध न्यायालय (ICC) के काम को समर्थन और मान्यता देने के लिए मनाया जाता है।
– यह दिन 17 जुलाई 1998 को रोम संविधि (Rome Statute) को अपनाने की वर्षगांठ का प्रतीक है, जिस संधि ने ICC बनाया था।
– यह तब हुआ जब 120 राज्यों ने रोम में एक क़ानून को अपनाया।

————————–
7. पोलैंड में भारत की अगली राजदूत (Ambassador) किसे बनाया गया है?

a. नगमा मोहम्मद मलिक
b. शमा जैन
c. नफीसा अहमद
d. माना कठेरिया

Answer: a. नगमा मोहम्मद मलिक

– नगमा मोहम्मद मलिक को 10 जुलाई 2021 को पौलेंड में भारत की अगली राजदूत नियुक्‍त किया गया है।
– 1991 बैच की भारतीय विदेश सेवा (IFS) की अधिकारी नगमा विदेश मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव हैं।

————————–
8. विश्‍व प्‍लास्टिक सर्जरी दिवस (world plastic surgery day) कब मनाया जाता है?

a. 15 जुलाई
b. 16 जुलाई
c. 17 जुलाई
d. 18 जुलाई

Answer: a. 15 जुलाई

– एसोसिएशन ऑफ प्‍लास्टिक सर्जन इन इंडिया (APSI) ने इस दिवस को मनाने की घोषणा की थी।
– प्‍लास्टिक सर्जरी के महत्‍व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए ये दिवस मनाया जाता है।
– 15 जुलाई 2021 में पहली बार इस दिवस को मनाया गया है।
– तो वहीं राष्ट्रीय प्‍लास्टिक सर्जरी दिवस पहली बार 15 जुलाई 2011 को मनाया गया था।

————————–
9. वर्चुअल त्रिपक्षीय अभ्यास TTX-2021 किन तीन देशों के बीच आयोजित किया गया?

a. भारत, श्रीलंका और बांग्‍लादेश
b. भारत, मालदीव और श्रीलंका
c. भारत, श्रीलंका और मालदीव
d .जापान और मालदीव

Answer: c. भारत, श्रीलंका और मालदीव

– भारत, श्रीलंका और मालदीव के शीर्ष रक्षा अधिकारियों ने एक वर्चुअल त्रिपक्षीय चर्चा आधारित अभ्यास में हिस्सा लिया।
– इसमें मादक पदार्थों की तस्करी, समुद्री तलाश एवं बचाव कार्य में सहायता पर चर्चा की।
– TTX-2021 अभ्यास 14 से 15 जुलाई 2021 तक चला।
– इस दो दिवसीय अभ्यास का लक्ष्य एक देश से अन्य देशों तक होने वाले अपराध को रोकने के लिए समझ और सहायता को बढ़ाना था।
– इस अभ्‍यास को मैरीटाइम वारफेयर सेंटर (Maritime Warfare Centre), मुंबई द्वारा समन्वित किया गया था।

————————–
10. ‘बोनालू’ (Bonalu) उत्सव किस राज्‍य में मनाया जाता है?

a. झारखंड
b. आंध्र प्रदेश
c. कर्नाटक
d. तेलंगाना

Answer: d. तेलंगाना

– तेलंगाना में पारंपरिक लोक उत्सव बोनालू की शुरुआत हो चुकी है, जिसमें देवी महाकाली की पूजा की जाती है।
– बोनालू तेलंगाना का वार्षिक त्यौहार है जो हैदराबाद, सिकंदराबाद और तेलंगाना के अलावा भारत के कई अन्य हिस्सों में मनाया जाता है।
– ये महाउत्सव एक महीने चलता है, त्योहार के पहले और आखिरी दिन येलम्मा के लिए विशेष पूजाएं की जाती हैं।
– वर्ष 2014 में तेलंगाना राज्य के गठन के बाद तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) ने बोनालू को राज्य उत्सव घोषित किया था।
– कहा जाता है कि ये त्योहार पहली बार 150 साल पहले एक बड़े हैजा के प्रकोप के बाद मनाया गया था।
– लोगों का मानना था कि महाकाली के क्रोध के कारण महामारी आई थी और उन्हें शांत करने के लिए बोनालू उत्सव की शुरुआत हुई।

तेलंगाना की राजधानी- हैदराबाद
राज्यपाल- तमिलिसई सौंदराजन
मुख्यमंत्री- के चंद्रशेखर राव


 

Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here

Free Download One Liner MCQ PDF –  Current Affairs : – Click Here

Buy eBooks & PDF

About Us | Help Desk | Privacy Policy | Disclaimer | Terms and Conditions | Contact Us

©2021 Sarkari Job News powered by Alert Info Media Pvt Ltd.

Log in with your credentials

or    

Forgot your details?

Create Account